चिरुडीह गोलीकांड मामले में डीसी सहित 24 पर हत्या का मामला

चिरुडीह फायरिंग पर हत्या का मामला दर्ज
Spread the love
  • विधायक निर्मला देवी ने दायर की थी कोर्ट परिवादवाद

  • हाईकोर्ट के नोटिस पर डेढ़ साल बाद पुलिस ने दर्ज किया मामला

  • पुलिस फायरिंग में चार की मौत, दर्जनों लोग हुए थे घायल

हजारीबाग : चिरुडीह गोलीकांड मामले में डीसी एवं एऩटीपीसी जीएम सहित 24 पर हत्या का मामला दर्ज किया गया है।



भारत सरकार की महारत्न कंपनी एनटीपीसी के मनमानी के खिलाफ

बड़कागांव के चिरुडीह में प्रशासन द्वारा लिखित आश्वासन की मांगों को पूरा करने के लिए रैयतों द्वारा चलाए जा रहे कफन सत्याग्रह के दौरान

प्रशासनिक ज्यादती कर आंदोलन को कुचलने के दौरान ग्रामीण-पुलिस के बीच हुई झड़प के मामले में बड़कागांव थाना में

हजारीबाग उपायुक्त रविशंकर शुक्ला सहित 24 लोगों पर हत्या, अपहरण, 27आर्म्स एक्ट के आरोप में

हाईकोर्ट के निर्देश पर बड़कागांव थाना में कांड संख्या 141/2018  दर्ज कर लिया गया है ।

चिरुडीह गोलीकांड के डेढ़ साल बाद दर्ज हुआ मामला

बड़कागांव विधायक निर्मला देवी द्वारा दायर परिवादवाद 426/17 में

तत्कालीन एसडीजीएम ऋचा श्रीवास्तव द्वारा 156(3) के तहत

22 मार्च 2017 को बड़कागांव थाना में मामला कर अनुसंधान करने का

निर्देश देने के बावजूद पुलिस मामला दर्ज नही कर रही थी ।

हाइकोर्ट में विधायक निर्मला देवी द्वारा दायर क्रिमिनल रिट याचिका

wp(cr)145/18 पर कोर्ट नंबर चार में पांच सितंबर को सुनवाई हुई,

जिसमें कोर्ट ने सरकार को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया ।

इसके बाद बड़कागांव थाना में मामला दर्ज किया गया  ।

हाईकोर्ट में मामले की पैरवी अधिवक्ता अभिषेक कृष्ण गुप्ता ,

एसडीजीएम कोर्ट में अधिवक्ता संजीव सिन्हा, अनिरुद्ध कुमार ने पैरवी की थी ।

एसडीजीएम ऋचा श्रीवास्तव के आदेश को डेढ़ साल तक दबा कर रखने के बाद

हाईकोर्ट के निर्देश पर बड़कागांव थाने में उपायुक्त रविशंकर शुक्ला,

एनटीपीसी के जीएम टी गोपाल कृष्णा, त्रिवेणी सैनिक माइनिंग कंपनी के ए सुब्रमण्यम,

एएसपी कुलदीप कुमार, नारायण विज्ञान प्रभाकर, सीओ शैलेश कुमार,

एसडीपीओ प्रदीप पल कच्छप,इंस्पेक्टर अखिलेश कुमार सिंह,

सब इंस्पेक्टर अकील अहमद, सुदामा दास, परमानंद मेहरा सहित

चौबीस लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया है ।

वनाधिकार कानून का पालन और ग्रामीण रैयतों पर कंपनी के लिए

प्रशासनिक अत्याचार की एसआईटी जांच की मांग को लेकर

कफन सत्याग्रह चलाया जा रहा था ।

जिसको जबरन साजिश कर पुलिस-प्रशासन ने कुचलना चाहा

जिसके बाद ग्रामीण-पुलिस झड़प में चार लोगों की मौत हो गई थी

और दर्जनों लोग घायल हुए थे । जिसमें पुलिस की गोली से अभिषेक राय,

रंजन दास, महताब आलम,पवन साव की मौत हो गई थी ।

Please follow and like us:


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.