Press "Enter" to skip to content

भारत और आस्ट्रेलिया की महिला खिलाड़ियों के लिए नया अनुभव होगा डे नाईट टेस्ट







क्वसलैंड: भारत और आस्ट्रेलिया की महिला टीमों के बीच एकमात्र डे नाईट मैच का काफी समय से

इंतजार रहा है। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट मैचों में भिड़ंत पिछली बार 2006 में हुई थी।

वनडे सीरीज के रोमांच ने इन दो टीमों के बीच गोल्ड कोस्ट टेस्ट का उत्साह और बढ़ा दिया है और

तो और यह महिला क्रिकेट इतिहास में केवल दूसरा डे-नाइट पिंक बॉल टेस्ट होगा। भारत के लिए

यह मैच ब्रिस्टल में इंग्लैंड के खिलाफ सम्मानजनक ड्रॉ के बाद इस साल का दूसरा टेस्ट होगा। वहीं

एडिलेड में भारत के विरुद्ध टेस्ट के बाद ऑस्ट्रेलिया के लिए टेस्ट मैचों में इकलौती विपक्षी टीम रही

है इंग्लैंड और उनके साथ 2019 एशेज के बाद कोई टेस्ट नहीं खेले गए हैं। पिंक बॉल के साथ खेलने

का नयापन दोनों टीमों के लिए एक चुनौती है हालांकि ऑस्ट्रेलिया में चार ऐसे खिलाड़ी हैं जो 2017

में नॉर्थ सिडनी ओवल टेस्ट का हिस्सा थीं। मल्टी फार्मैट सीरीज में फिलहाल ऑस्ट्रेलिया 4-2 से

आगे है। टेस्ट जीतने पर चार अंक उपलब्ध हैं और ऑस्ट्रेलिया यहीं पर इस सीरीज में अजेय बढ़त

बनाना चाहेगा। मुख्य कोच मैथ्यू मॉट के अनुसार टीम चार दिन का वनडे क्रिकेट खेलना चाहती है।

पिछले डे-नाइट टेस्ट में एक सपाट पिच पर बड़े स्कोर के साथ ड्रॉ देखने को मिला था। वनडे सीरीज

में झूलन गोस्वामी, मेघना सिंह, एलीस पेरी और तालिया मैक्ग्रा ने अच्छी स्वग गेंदबाज की थी और

उम्मीद रहेगी एक रोमांचक मुकाबले की। दोनों टीमों में ऑलराउंडर्स के चलते बल्लेबाज में काफ

गहराई दिखी थी हालांकि ऑस्ट्रेलिया के लिए रेचल हेंस का ना होना एक बड़ा धक्का जरूर है।

भारत में भी टेस्ट खेलने का मौक मिलेगा:मेग लानिंग

भारत में भी टेस्ट खेलने का मौक मिलेगा:मेग लानिंग आस्ट्रेलिया इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ

जनवरी में टेस्ट खेलेगा लेकिन भारतीय टीम अगली बार कब टेस्ट खेलते दिखेगी यह अभी स्पष्ट

नहीं हैं। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान मेग लानिंग ने कहा, उम्मीद है यह एक अवसर ना हो और आने वाले

समय में हमें भारत में भी टेस्ट खेलने का मौका मिलेगा। टेस्ट क्रिकेट में एलीस पेरी बल्लेबाजी में

78 और गेंदबाजी में 18.19 का औसत रखती हैं। उनके पिछले तीन टेस्ट पारियां रही हैं 213 नाबाद,

116 और 76 नाबाद। लेकिन 2020 टी20 विश्व कप में चोटिल होने के बाद वह पुराने लय प्राप्त

करने में असफल रही हैं। उनका वनडे सीरीज भले ही साधारण रहा हो, टेस्ट क्रिकेट में वह अपने

बल्लेबाजी के बलबूते पर ही एक चैंपियन की भूमिका निभा सकती हैं। 2006 के एडिलेड टेस्ट से

सिर्फफ झूलन गोस्वामी और मिताली राज ही अब भी दोनों टीमों का हिस्सा हैं। अपने शानदार

करियर को झूलन संभवत: अगले साल होने वाले विश्व कप के बाद समाप्त कर सकती हैं और ऐसे

में यह मैच उनका 12वां और अंतिम टेस्ट होगा। वनडे सीरीज में उन्होंने जबरदस्त गेंदबाजी की और

एलिसा हीली को दूसरे वनडे में एक ख़ूबसूरत गेंद से बोल्ड किया था।



More from क्रिकेटMore posts in क्रिकेट »
More from खेलMore posts in खेल »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from विश्वMore posts in विश्व »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: