Press "Enter" to skip to content

अफ्रीका के कुछ हिस्सों में बच्चों को हथियार थमाने की खतरनाक प्रवृत्ति




  • आतंकवादी गुट भी बच्चों को जबरन हिंसा सीखा रहे हैं
  • स्कूल और अस्पतालों से हुआ है अनेक बच्चों का अपहरण
  • दैहिक शोषण से गुजरने वाले बच्चों पर पड़ता है प्रभाव

जेनेवाः अफ्रीका के कुछ हिस्सों में बच्चों को सैनिक बनाने की खतरनाक प्रवृत्ति अब समाज पर भी बुरा असर डाल रही है। बहुत कम उम्र में हथियार पकड़ने वाले ऐसे बच्चे हिंसक होते जा रहे हैं। दरअसल जिस माहौल में वे ऐसा कर रहे हैं, वहां सही और गलत की पहचान करने की सोच विकसित भी नहीं हो पा रही है क्योंकि वे बहुत कम उम्र के हैं।




यूनिसेफ की एक रिपोर्ट में यह बताया गया है कि पश्चिमी और मध्य अफ्रीका में ऐसा सबसे अधिक हो रहा है। इन इलाकों में 21 हजार से अधिक बच्चे जबरन सैनिक बनाये गये हैं। इनमें से कुछ को तो सरकारी सेना में रखा गया है जबकि शेष वहां सक्रिय हथियारबंद आतंकवादी गिरोहों में जबरन शामिल किये गये हैं।

रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि इन इलाकों में सेक्स जनित हिंसा के बढ़ने की एक खास वजह भी यही है। रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2016 से इसमें तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है और लगातार यह क्रम जारी ही है।




अफ्रीका के कुछ हिस्सों पर यूनिसेफ की भी रिपोर्ट

रिपोर्ट के मुताबिक ग्रामीण इलाकों से अपहृत बच्चों का दैहिक शोषण होने की वजह से भी उनमें मानसिक विकार पैदा होता है। उसके बाद वे भी हिंसक आचरण करने लगते हैं, जिससे समस्या और तेजी से बढ़ती ही जा रही है। रिपोर्ट में अफ्रीका के कुछ हिस्सों में इस किस्म के दैहिक शोषण के शिकार बच्चों की संख्या 22 सौ से अधिक बतायी गयी है जबकि 35 सौ बच्चों का अपहरण कर लिया गया था। वहां के कुछ स्कूलों और अस्पतालों में हुए हमलों में पंद्रह सौ बच्चे प्रभावित हुए हैं।

युद्धपीड़ित इस पश्चिमी और मध्य अफ्रीका के बारे में यूनिसेफ की रिपोर्ट के मुताबिक वहां से 57 मिलियन बच्चे कुपोषण के शिकार है। यहां तक कि जबरन जिन बच्चों को हथियार थमाया गया है उनमें भी कुपोषण है क्योंकि पूरे इलाके में सिर्फ युद्ध की वजह से भोजन का भीषण संकट है। रिपोर्ट में युद्धपीड़ित बुर्किना फॉसो, मध्य अफ्रीकी गणराज्य, कैमरुम, चाड, कॉंगो, माली, माउरीटानिया, नाइजर जैसे देसों का उल्लेख किया गया है। इन इलाकों में प्राकृतिक संकट की वजह से खेती प्रभावित होती रही है जबकि शेष कसर वहां के हथियारबंद लड़ाइयों ने कर दिया है।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: