fbpx Press "Enter" to skip to content

चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ ने बुधवार को दी महाराष्ट्र में दस्तक

  • महाराष्ट्र के अधिकतर स्थानों पर होगी भारी बारिश
  • 100 से 120 किलोमीटर प्रतिघंटे के रफ्तार से चलेगी तेज हवा

नयी दिल्ली : चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ के बुधवार को महाराष्ट्र में रायगढ़ जिले के

अलीबाग के पास जमीन से टकराने की प्रकिया शुरू हो गई है। भारतीय मौसम विज्ञान

विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी। आईएमडी के राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के

अनुसार चक्रवाती तूफान ने मुंबई के दक्षिण में 95 किलोमीटर दूर अलीबाग से 40

किलोमीटर की दूरी पर दस्तक दी है। चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ गुजरात के सूरत से दक्षिण

में 325 किलोमीटर की दूरी पर है। आईएमडी के अनुसार चक्रवाती तूफान के कारण अगले

24 घंटों के दौरान उत्तरी कोंकण (मुंबई, पालघर, ठाणे, रायगढ़ जिलों) में और उत्तरी

मध्य महाराष्ट्र के अधिकतर स्थानों पर बारिश या भारी बारिश हो सकती है। दक्षिण

कोंकण( रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग जिलों) और गोवा, दक्षिण गुजरात क्षेत्र (वलसाड,

नवसारी, डांग, दमन, दादरा व नगर हवेली और सूरत जिलों) में भी अगले 24 घंटों के

दौरान बारिश या भारी बारिश होने का पूर्वानुमान है। चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ के कारण

पश्चिम मध्य प्रदेश और विदर्भ के दूरदराज के क्षेत्रों में भी बारिश हो सकती है। आईएमडी

के अनुसार चक्रवाती तूफान के कारण अरब सागर और उत्तर महाराष्ट्र के रायगढ़, मुंबई

और ठाणे में 100 से 120 किलोमीटर प्रतिघंटे के रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती हैं।

महाराष्ट्र के रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग, पालघर और ठाणे (शेष क्षेत्र) में 85 से 105 किलोमीटर

प्रतिघंटे के रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती हैं।

चक्रवाती तूफान का कहर गुजरात पर भी बरसेगा

‘निसर्ग’ के कारण दोपहर बाद से गुजरात के वलसाड, नवसारी जिलो, दमन, दादरा व

नगर हवेली में 60 से 90 किलोमीटर प्रतिघंटे के रफ्तार से तेज हवाएं चलने का पूर्वानुमान

है। दक्षिण गुजरात के सूरत और भरूच जिलों में 60 से 70 किलोमीटर प्रतिघंटे के रफ्तार

से तेज हवाएं चल सकती है। आईएमडी के अनुसार चक्रवाती तूफान से पुराने मकानों को

क्षति हो सकती है और बिजली एवं संचार लाइन को भी थोड़ा-बहुत नुकसान हो सकती है।

‘निसर्ग’ के कारण प्रभावित क्षेत्रों में बड़े पेड़ों की शाखाएं टूटेंगी और छोटे पड़े जड़ से उखड़

सकते हैं, विशेष रूप से केला और पपीता के पेड़ों को नुकसान पहुंच सकता है। आईएमडी ने

कहा है कि प्रभावित तटीय क्षेत्रों और पास के पुणे, अहमदनगर, नासिक, औरंगाबाद और

बीड जिलों के कुछ हिस्सों में भी लोगों को इस दौरान घरों के अंदर ही रहना चाहिए।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!