Press "Enter" to skip to content

सीपीआई कार्यालय की बैठक में 17 मई को किसान रैली के आयोजन का फैसला

  • पूर्व सांसद मेहता की अध्यक्षता में वाम दलों की संयुक्त बैठक

  • केंद्र सरकार के किसान विरोधी आचरण का विरोध

  • गांव से लेकर राजधानी तक किया जाएगा विरोध

  • रैली में सीएम हेमंत सोरेन को भी आमंत्रित करेंगे

राष्ट्रीय खबर

रांचीः सीपीआई कार्यालय में वामदलों एवं किसान संघर्ष समन्वय समिति के बैठक

सीपीएम के राज्य सचिव गोपी कांत बख्शी की अध्यक्षता में हुई। जिसमें मुख्य रुप से

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव सह पूर्व सांसद भुवनेश्वर प्रसाद मेहता, केडी

सिंह सहायक सचिव, महेंद्र पाठक भाकपा माले के राज्य सचिव जनार्दन प्रसाद,

सीपीआईएम के प्रफुल्ल लिंडा, मार्क्सवादी समन्वय समिति के मिथिलेश सिंह, राजेंद्र

गोप, सीपीआई के अजय कुमार सिंह, किसान राजद प्रकोष्ठ के अवधेश पाल,

सीपीआईएम के सुफल महतो सहित कई लोग मौजूद थे। बैठक के बाद प्रेस वार्ता में

भुवनेश्वर प्रसाद मेहता ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार हठधर्मिता को अपनाते हुए

किसान आंदोलन को नजरअंदाज कर रही है। इसीलिए ढाई महीने से अधिक समय से

लाखों किसान दिल्ली के बॉर्डर पर बैठे हुए हैं लेकिन मोदी सरकार किसानों को प्रताड़ित

करने में लगी हुई है। देश के किसान नौजवान मजदूर सभी प्रभावित हो रहे हैं, महंगाई

चरम पर है। महंगाई के कारण आम जनता का जीना भी दूभर हो चुका है। इसीलिए

किसान आंदोलन में एकजुटता जाहिर करने के लिए झारखंड के किसान संगठनों के लोग

लगातार आंदोलन कर रहे हैं। उसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए मार्च महीने से पंचायत गांव से

लेकर प्रखंड एवं जिला स्तर तक किसान पंचायत का आयोजन पूरे राज्य में किया जाएगा।

सीपीआई कार्यालय की बैठक में रैली की रुपरेखा तैयार हुई

अप्रैल माह में प्रमंडलीय किसान पंचायत एवं 17 मई को रांची के मोरहाबादी मैदान में

किसान महापंचायत रैली का आयोजन किया जाएगा। जिसमें सभी विपक्षी दलो के नेता

सामाजिक और जनवादी विचारक भाग लेंगे। झारखण्ड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को भी

आमंत्रित कर उस रैली में शामिल होने की अपील की जाएगी। रांची के किसान  महा

पंचायत में शामिल होने के लिए कई गांव से हजारों की संख्या में पैदल मार्च कर भी रांची

पहुंचेंगे। महंगाई के खिलाफ केंद्र के मोदी सरकार का पुतला 21 फरवरी को पूरे राज्य में

गांव से लेकर शहर तक जलाया जाएगा। नेताओं ने कहा कि भाजपा महंगाई की जननी है

और पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार आम जनता पर कहर बरपा रही है।

इसीलिए आम जनता को भी जागरूक होकर केंद्र सरकार की जन विरोधी नीतियों के

खिलाफ सड़कों पर उतरना चाहिए एवम केंद्र सरकार की जन विरोधी, मजदूर विरोधी,

महिला विरोधी, नौजवान विरोधी एवम आम अबाम एवम किसान विरोधी सरकार के

खिलाफ जन आन्दोलन चलाया जाए। यह जानकारी सीपीआई के कार्यालय सचिव अजय

कुमार सिंह ने दी।

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from कृषिMore posts in कृषि »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »

Be First to Comment

... ... ...
Exit mobile version