fbpx Press "Enter" to skip to content

एनआरसी में भ्रष्टाचार का नया जिन्न बाहर निकला

  • प्रतीक हजेला के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी
  • पहले से ही 16 सौ करोड़ की गड़बड़ी का आरोप
  • भाजपा सहित कई दलों ने की थी जांच की मांग
  • सुप्रीम कोर्ट के आदेश से हटाये गये हैं हाजेला
भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटीः एनआरसी में भ्रष्टाचार की कहानी अब शायद बाहर आ सकती है। भाजपा सहित अनेक राजनीतिक दलों

के लगातार आरोप लगाने के बाद अंततः एनआरसी के काम काज की देखभाल करने वाले अधिकारी प्रतीक हजेला

के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी है। प्रक्रिया सीएजी ने 1,600 करोड़ रुपये में भारी घोटाला मिला है।

एजी की ऑडिट में इस गड़बड़ी का खुलासा होने के बाद प्रारंभिक तौर पर 108 करोड़ रुपये की वित्तीय अनियमितता

की बात कही गयी है। सीएजी ने हाल ही में अपनी रिपोर्ट में इसे दर्ज भी कर लिया है।

याद रहे कि इस पूरी एनआरसी प्रक्रिया की निरंतर निगरानी सुप्रीम कोर्ट के द्वारा का गयी थी।

उच्चतम न्यायालय ने दिसंबर 2013 में शुरू की गई एनआरसी पर समय समय पर निर्देश भी जारी किये थे।

महालेखाकार कार्यालय (लेखा परीक्षा) ने राज्य समन्वयक, एनआरसी को राज्य समन्वयक, एनआरसी के कार्यालय

की निरीक्षण रिपोर्ट 1 अप्रैल, 2014 से 3 दिसंबर, 2017 की अवधि के लिए सौंपी थी। एक महीने के भीतर निरीक्षण

रिपोर्ट में जवाब प्रस्तुत करने का अनुरोध रिपोर्ट की एक प्रति असम सरकार के वित्त विभाग को भेजी गई थी।

वित्त विभाग द्वारा प्राप्त एजी (ऑडिट) रिपोर्ट में वित्तीय अनियमितताओं और अनौचित्य की एक श्रृंखला पर

प्रकाश डाला गया है। पूर्व समन्वयक प्रतीक हजेला, भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (सीएजी) द्वारा

एक अंतरिम रिपोर्ट में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर या एनआरसी को अद्यतन करने के लिए चल रही प्रक्रिया में

कथित वित्तीय कुप्रबंधन के असम भाजपा के दावों को और अधिक दंगों में अंतरिम रिपोर्ट में वित्तीय अनियमितता

पाई गई है।

एनआरसी में घोटाला की पहली रिपोर्ट सीएजी की

108 करोड़ रुपये की धनराशि के अलावा इसके समन्वयक प्रतीक हजेला पर पहले से ही कई किस्म के आरोप लगते आ

रहे थे। असम लोक निर्माण, एक प्रमुख गैर-सरकारी संगठन ने पिछले कई वर्षों में एनआरसी समन्वयक, प्रतीक हजेला

द्वारा कथित “अवैधता और वित्तीय अनियमितताओं” में केंद्रीय जांच ब्यूरो की भ्रष्टाचार निरोधक शाखा के साथ एक

प्राथमिकी दर्ज की है। प्राथमिकी में कहा गया है कि सीबीआई को जांच करनी चाहिए कि हजेला ने केंद्र द्वारा आवंटित

1600 करोड़ कैसे खर्च किए। सर्वोच्च न्यायालय में दायर असम एनआरसी मामले में एपीडब्ल्यू मूल याचिकाकर्ताओं में

से एक है। एपीडब्ल्यू ने अपनी याचिका में आरोप लगाया है कि पूर्व एनआरसी समन्वयक ने कुछ सेवानिवृत्त सरकारी

अधिकारियों को उनके सलाहकार के रूप में नियुक्त किया था और उन्हें नए वाहन और ऊंचे वेतन प्रदान किए थे।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Comments

Leave a Reply