fbpx Press "Enter" to skip to content

गुवाहाटी के राजभवन तक पहुंचा कोरोना का संक्रमण

प्रतिनिधि

गुवाहाटी : गुवाहाटी के राजभवन तक अब कोरोना का संक्रमण पहुंच चुका है। केंद्र और

राज्य सरकारों की तमाम कोशिशों के बावजूद देशभर में कोरोना वायरस संक्रमितों के

आंकड़े बढ़ते ही जा रहे हैं। असम में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या लगातार बढ़ती

जा रही है। उत्तर-पूर्व भारत के राज्यों इस महामारी से सबसे अधिक प्रभावित राज्यों में

असम हैं। 05 जुलाई को असम में कोरोना वायरस के 777 नए मामले सामने आए। इसके

साथ, असम में कोरोनावायरस संक्रमण के मामले 1,202 तक पहुंच गए। स्वास्थ्य और

परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार इन मामलों में 6,349 ठीक हो गए हैं और 14 की मौत

हो गई है। राज्य में रिपोर्ट किए गए कुल 1,202 मामलों में से 35 के लिए जिलेवार संख्या

उपलब्ध हैं। गोलाघाट में कोविड-19 मामलों की संख्या सबसे अधिक थी। नीचे दी गई

तालिका और मानचित्र सभी जिलों के मामलों के नंबर दिखते हैं। भारत के सभी राज्यों

और केंद्र शासित प्रदेशों के कुल मामलों में असम नंबर 14 पर है। गुवाहाटी के राजभवन

परिसर में कोविड19 पॉजिटिव मरीज का मामला सामने आने के मद्देनजर क्षेत्र को एक

कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए सर्किल अधिकारी नियुक्त किया गया है। साथ ही

गुवाहाटी राजस्व क्षेत्र को तत्काल सील करने के निर्देश दिए गए हैं। असम सरकार ने

कामरूप मेट्रोपॉलिटन डिस्ट्रिक्ट में सप्ताह के भीतर पांच से 12 जुलाई के बीच दिशा-

निर्देशों में छूट की घोषणा की। किराने की दुकानों को सोमवार और बुधवार को सुबह 11

बजे से शाम 4 बजे तक संचालित करने की अनुमति होगी। केवल 20 फीसदी दुकानों को

किसी भी दिन खोलने की अनुमति रहेगी। शुक्रवार को ई-कॉमर्स वितरण गतिविधियां

संचालित करने के लिए सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे के बीच अनुमति दी गई है।

गुवाहाटी के राजभवन का हिस्सा भी कंटेनमेंट जोन

कामरूप शहर के जिला उपायुक्त बिस्वजीत पेगु ने कहा कि सार्वजनिक स्वच्छता बनाए

रखने और कोरोना वायरस को क्षेत्र में फैलने से रोकने के लिए, इसे एक निरूद्ध क्षेत्र घोषित

किया गया है और गुवाहाटी क्षेत्र अधिकारी को क्षेत्र को तुरंत सील करने का निर्देश दिया

गया है। दो निजी सुरक्षा अधिकारियों में वायरस संक्रमण की पुष्टि के बाद असम के

राज्यपाल जगदीश मुखी, उनकी पत्नी प्रेम मुखी और राजभवन में तैनात सुरक्षाकर्मी और

उनके परिवार के सदस्य समेत 176 कर्मचारियों की जांच एक जुलाई को की गई थी।

उपायुक्त ने कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के

अनुसार अधिसूचित निरूद्ध क्षेत्र में किसी भी अनधिकृत प्रवेश या किसी के बाहर निकलने

पर रोक लगाई जाती है। आदेश में कहा गया है कि सामाजिक दूरी को बनाए रखने के

संबंध में सभी वैधानिक और अन्य दिशा-निर्देशों को सख्ती से लागू किया जाएगा।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from असमMore posts in असम »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

3 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!