fbpx Press "Enter" to skip to content

मूसलाधार बारिश से बेकाबू हुई सिकरहना, जनजीवन अस्त व्यस्त

  • चारो तरफ भय, भूख व दहशत का आलम

  • सुरक्षित स्थानों की ओर पलायन को मजबूर

  • दो वक्त की रोटी व रोजमर्रा की जिंदगी प्रभावित

राष्ट्रीय खबर

सुगौली पू चंपारण: मूसलाधार बारिश ने यहां के अधिकांश लोगो की आंखों में भी आंसू ला

दिये हैं। हर आंख में आंसू , हर दिल मे खौफ, कदम दहशत से सहमे हुए। फिर भी जान

बचाने के लिए घर छोड़कर सुरक्षित स्थान पर जाने की हड़बड़ी। चारो तरफ अफरा तफरी

का आलम। यह नजारा सिकरहना में दुबारा आई बाढ़ के बाद विधानसभा क्षेत्र के कई गांवों

में देखा गया। पार्षद प्रतिनिधि विकास शर्मा, मो. साबीर, मो. मुन्ना, जावेद आलम, राकेश

पटेल, सहित कई बेचैन रहते हुए बोल रहे थे कि एक बार आई बाढ़ से किसी तरह जान बच

पाई। अभी लोग संभले नहीं थे कि दुबारा बाढ़ ने दस्तक दे दिया। विगत वर्ष आई बाढ़ की

विनाशकारी लीला की कल्पना करते ही मन कांप उठता है। बाढ़ के साथ साथ आफत की

बारिश ने जीना मुश्किल कर दिया है। अब किसी तरह जान बचाने के लिए सुरक्षित जगह

की तलाश में लगे हुए है। सरकार की भी नजर हम बाढ़ पीड़ितों पर नही है। जब भूखे बच्चे

व मवेशी कातर नजरो से देखते है तो कलेजा मुँह को आ जाता है,लेकिन करे तो क्या करे।

ग्रामीण भी मूसलाधार बारिश  के कुदरत की इस कदर को कोस रहे थे। गांव के लोग जान

जोखिम में डाल कर और अपने भाग्य को कोसते हुए सुरक्षित जगह की ओर जाने को

विवश थे। सिकरहना नदी में अचानक बढ़े जल स्तर के चलते कई इलाकों में बाढ़ ने

दुबारा दस्तक दे दी है। नप के विशुनपुरवा,नयका टोला, निमुई,बेलाइठ,अमीर खान टोला,

महादेव टोला,नौवाड़ीह सहित कई जगहों पर पानी प्रवेश करने लगा है और प्रखंड के

रौशनपुर सपहा,लक्ष्मीपुर, मुसवा भेड़िहारी, करमवा, रघुनाथपुर,बुच्चा, कोना,मधुमालती

सहित कई गांवों में बाढ़ आ गया है।

मूसलाधार बारिश की वजह से कई गांव जलमग्न हो चुके

नयका टोला,करमवा महादलित बस्ती,मधुमालती,लालपरसा,चिलझपटी, शुकुल पाकड़

सहित अन्य गांव का कई परिवार का घर पानी से घिरा हुआ है। मूसलाधार बारिश 

सिकरहना नदी का जल स्तर बढ़ने के साथ ही दुबारा बाढ़ आ गया है। जिसके भय से बाढ़

प्रभावित लोग अपने परिवार के साथ जरूरी सामानों के साथ सुरक्षित स्थान की ओर

पलायन करने में जुट गए है। गांव के कई घरों में पानी घुस गया।जिससे लोगों को घर को

छोड़ना मजबूरी हो गई। घर से बेघर हुए लोग अपनी जान की रक्षा के लिए ऊंचे जगहों पर

शरण ले रहे है। बाढ़ आने के पूर्व प्रशासन के द्वारा टूटे रिंग बांधो का मरम्मत नही कराया

गया। सिकरहना नदी के किनारे बसे गांव के कई घर ध्वस्त हो गए और कई गिर गए। एक

बार फिर बाढ़ पीड़ितों के सामने बढ़ते जल स्तर ने जीवन को संकट में डाल दिया है।

मूसलाधार बारिश  के बाद सिकरहना नदी का बढ़ रहा जल स्तर से कई गांव को बाढ़ अपने

चपेट में लेने के लिए व्याकुल है। आ रही बाढ़ को लेकर लोग परेशान हो गए है। अपनी

जान माल की रक्षा के लिए लोग सड़क के किनारे शरण लेने लगे है। प्रखंड के भवानीपुर,

अमीर खान टोला,मधुमालती सहित कई जगहों पर हो रहे कटाव के चलते लोग अपने

अपने घर के समान को हटाने में लगे हुए है।एक बार फिर से बाढ़ पीड़ितों के सामने बाढ़ ने

उनके जीवन को संकट में डाल दिया है।सबसे बड़ी सबसे पशुपालकों के लिए भी हो गया है

कि वे पशुओं के लिए चारे की व्यवस्था कैसे करे।बाढ़ व कटाव ने कई लोगो का आशियाना

छीन लिया।जिससे उन्हें खुले आसमान के नीचे ही गुजर बसर करना पड़ेगा।

खुले आसमान के नीचे रहने की फिर से मजबूरी

पीड़ित परिवारों के सामने भुखमरी की स्थिति आ गई है। दो दिन से लगातार हो रहे

मूसलाधार बारिश से पूरा जीवन अस्त व्यस्त हो गया है।लोगो के घर मे घुसा बाढ़ और

बारिस का पानी।वही सुगौली सिकरहना नही का ध्वस्त बांध का नही निर्माण होने से

सुगौली प्रखण्ड के सभी पँचायत जलमग्न हो गया है। कई पँचायत ऐसे है जहाँ पानी आ

जाने से सुगौली ब्लाक जाने का रास्ता बंद हो गया है। प्रखण्ड के करमवा पँचायत के कई

वाड में देखने को मिला जहा लोगो के घरों में पानी प्रवेश कर गया है जिसके चलते लोगो

का जीवन नर्क बन कर रहा गया है।लोग सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए पलायन कर रहे

हैं।वही वाड नम्बर छः के पूर्व वाड सदस्य का कहना है कि हम लोग का जिंदगी नर्क बन

कर रह गया है। प्रत्येक साल का यही कहानी है।प्रत्येक साल छः नम्बर वाड बाढ़ और

बारिस के पानी मे डूब ही जाता है।कोई अधिकारी और मुखिया इसका निदान करने को

तैयार नही है। वही पूर्व वाड सदस्य का कहना है कि हम लोग तो बरसात में सुगौली प्रखण्ड

और रघुनाथपुर बाजार भी रास्ता बंद हो जाने के कारण नही आ जा पाते है। हम मोतिहारी

जिलाधिकारी से मांग करते है कि इसका स्थाई निदान किया जाए।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from मौसमMore posts in मौसम »
More from राज काजMore posts in राज काज »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: