Press "Enter" to skip to content

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल का इस्तीफा अस्वीकार कहा और मजबूती से काम करें







  • कांग्रेस कार्यसमिति ने आमूल चूल परिवर्तन के लिए किया अधिकृत

  • नफरत और विभाजन की ताकतों के खिलाफ सदैव कटिबद्ध

नयी दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेते हुए

पार्टी कार्य समिति की बैठक में अपने इस्तीफे की पेशकश की।

जिसे सभी सदस्यों ने एक स्वर से नामंजूर कर दिया और उन्हें पार्टी के संगठनात्मक ढ़ांचें में

आमूल चूल परिवर्तन करने के लिए अधिकृत किया।

कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारक इकाई कार्य समिति की पार्टी मुख्यालय में

लगभग चार घंटे तक चली बैठक के बाद मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला

तथा महासचिव के सी वेणुगोपाल ने बताया कि

गांधी ने बैठक में अध्यक्ष पद से अपने इस्तीफे की पेशकश की लेकिन कार्यसमिति के सदस्यों ने सर्वसम्मति से इसे खारिज कर दिया।

कार्य समिति ने उनसे मौजूदा प्रतिकूल और चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में पार्टी का नेतृत्व एवं मार्गदर्शन करने का अनुरोध किया।

उसने गांधी को देश के युवाओं, किसानों, महिलाओं, अनुसूचित जाति, जनजाति, पिछड़ों, गरीबों, शोषितों और वंचितों की समस्याओं के लिए आगे बढ़कर जूझने का आग्रह किया।

कार्यसमिति ने गांधी को पार्टी के संगठनात्मक ढांचे में आमूलचूल परिवर्तन

तथा विस्तृत पुनर्गठन करने के लिए अधिकृत किया और कहा कि इसके लिए योजना जल्द से जल्द लागू की जाए।

बैठक में एक प्रस्ताव पारित किया गया जिसमें कहा गया है कि कार्यसमिति जनादेश को विनम्रता से स्वीकार करती है।

इसमें कहा गया है कि पार्टी उन चुनौतियों, विफलताओं और कमियों को स्वीकार करती है, जिनकी वजह से ऐसा जनादेश आया।

पार्टी ने चुनाव हारा है, लेकिन उसका अदम्य साहस, संघर्ष की भावना और सिद्धांतों के प्रति

प्रतिबद्धता पहले से ज्यादा मजबूत है।

पार्टी नफरत और विभाजन की ताकतों से लोहा लेने के लिए सदैव कटिबद्ध है।

कार्यसमिति ने देश के साहसी एवं सजग मतदाताओं को धन्यवाद दिया

जिन्होंने कांग्रेस में अपना विश्वास व्यक्त किया।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल  को अपनी नीतियों पर आगे बढ़ने का फैसला बैठक में लिया गया

प्रस्ताव में कहा गया है कि कांग्रेस एक जिम्मेदार और सकारात्मक विपक्ष के रूप में अपना

कर्तव्य निभाएगी और देशवासियों की समस्याओं को सामने रख उनके प्रति सरकार की जवाबदेही सुनिश्चित करेगी।

कार्यसमिति ने देश के समक्ष मौजूद चुनौतियों का संज्ञान लिया और कहा कि नई सरकार को इनका हल ढूंढना है।

पार्टी ने कहा है कि आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र और कर्नाटक जैसे कई राज्यों में सूखे की स्थिति के कारण देश में कृषि संकट और बढ़ता जा रहा है।

विभिन्न संस्थाएं भारत के संवैधानिक लोकतंत्र की पहचान हैं, पर उनकी निष्पक्षता एवं अखंडता पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं।

देश में सामाजिक सदभाव और भाईचारे पर लगातार हमले हो रहे हैं।

कार्यसमिति ने कहा है कि इन मुद्दों पर अगली सरकार को तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है।

भारतीय जनता पार्टी सरकार की जिम्मेदारी और जवाबदेही है कि देश के समक्ष मौजूद इन समस्याओं का तत्काल समाधान किया जाए।

प्रस्ताव में कहा गया है कि कांग्रेस इन समस्याओं का समाधान करने में सकारात्मक और सहयोगात्मक भूमिका अदा करेगी।

कार्यसमिति ने उम्मीद जतायी है कि केंद्र की भाजपा सरकार इन समस्याओं को सर्वोच्च प्राथमिकता से सुलझाएगी।

बैठक चुनावी अभियान की चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में कड़ा संघर्ष करते हुए दिन-रात मेहनत करने के लिए की कांग्रेस अध्यक्ष, पदाधिकारियों और नेताओं, पार्टी कार्यकर्ताओं तथा कांग्रेस प्रत्याशियों के प्रति आभार व्यक्त किया गया।

कार्यसमिति ने सभी सहयोग दलों और उनके नेतृत्व को धन्यवाद दिया

जिन्होंने इस सैद्धांतिक लड़ाई में कांग्रेस का साथ दिया।

गांधी की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में पार्टी की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह,

वरिष्ठ नेता ए के एंटनी, गुलाम नबी आजाद, अंबिका सोनी, पी चिदंबरम, पार्टी कोषाध्यक्ष अहमद पटेल,

कैप्टन अमरेंद्र सिंह, अशोक गहलोत, शीला दीक्षित, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा

और के सी वेणुगोपाल सहित लगभग सभी सदस्य मौजूद हैं।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
More from चुनावी चकल्लसMore posts in चुनावी चकल्लस »

Be First to Comment

Leave a Reply

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com