fbpx Press "Enter" to skip to content

कांग्रेस की हार पर अभी बहस का वक्त नहीं हैः कपिल सिब्बल

  • यह राजनीति का नहीं राष्ट्रीय आपदा का समय है

  • सुप्रीम कोर्ट को अब दैनिक हस्तक्षेप करना चाहिए

  • प्रधानमंत्री को लोगों के मौत की कोई चिंता नहीं है

राष्ट्रीय खबर

नईदिल्लीः कांग्रेस की हार पर हम बाद में भी बहस कर सकते हैं। अभी कोरोना के राष्ट्रीय

संकट को देखना हम सभी की प्राथमिक जिम्मेदारी है। इस राष्ट्रीय संकट से उबरने के बाद

हम कांग्रेस की हार के कारणों पर अलग से सही समय पर चर्चा कर सकते हैं। अभी इस

चर्चा का समय नहीं है। यह बातें कांग्रेस से विक्षुब्ध गुट के नेता कपिल सिब्बल ने कही है।

वह उन 23 नेताओं में शामिल हैं, जो पार्टी में नेतृत्व परिवर्तन और चुनाव की मांग करते

आ रहे हैं। श्री सिब्बल ने कोरोना प्रबंधन पर सुप्रीम कोर्ट के दखल की सराहना की। उन्होंने

कहा कि अब सुप्रीम कोर्ट के अपने अधिकार के तहत केंद्र सरकार को यह निर्देश देना

चाहिए कि वह हर कदम पर अपने सारे फैसलों से अदालत को अवगत कराये। बताते चलें

कि श्री सिब्बल देश के पूर्व कानून मंत्री भी रहे हैं। उन्होंने इसी क्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र

मोदी और चुनाव आयोग की कड़ी आलोचना की। श्री सिब्बल ने कहा कि एक तरफ कोरोना

संकट को दरकिनार कर श्री मोदी चुनावी रैलियों में व्यस्त थे। दूसरी तरफ चुनाव आयोग

को भी इस राष्ट्रीय आपदा की कोई चिंता नहीं थी। उन्होंने कहा कि अब चुनाव आयोग से

यह पूछा जाना चाहिए कि आठ चरणों का पश्चिम बंगाल में चुनाव क्या सोचकर तय

किया गया था। इसका औचित्य क्या था और उससे देश को जो नुकसान हुआ है, उसकी

जिम्मेदारी कौन लेगा। कांग्रेस की राजनीति पर दोबारा पूछे गये सवाल के उत्तर में

उन्होंने कहा कि अभी पार्टी की राजनीति पर सोचने का कोई समय ही नहीं है। पहले

कोरोना संकट से देश से उबरे राजनीति की बात उसके बाद हो सकती है।

कांग्रेस की हार और संगठन पर बाद में चर्चा करेंगे

श्री सिब्बल ने सुझाव दिया कि टीकाकरण भी इस कोरोना महामारी के प्रभाव को कम

करने का एक मजबूत जरिया है। इसलिए केंद्र को इस टीकाकरण के लिए हर किस्म का

उपाय करना चाहिए। इसके लिए सरकार और निजी अस्पताल के दामों में भी एकरुपता

होनी चाहिए। संगठन के मुद्दे पर उन्होंने साफ कर दिया कि उस बात पर चर्चा के लिए

भविष्य में बहुत  समय पड़ा है। अभी पूरा संकट देश के कोरोन संकट को लेकर चिंतित है।

उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की कि कांग्रेस शासित राज्यों में इस विपदा का

सामना बेहतर तरीके से किया जा रहा है। अभी देश के सामने एक स्वास्थ्य आपातकाल

जैसी स्थिति है। ऐसे मौके पर राजनीति पर ध्यान देना बुद्धिमानी नहीं है। उन्होंने

प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि देश को अभी ऐसा प्रधानमंत्री मिला है जो लोगों

की मौत का आंकड़ा ऊपर जाने के बीच भी सिर्फ चुनाव में खुद को व्यस्त रखता है।

अस्पतालों में बिना ऑक्सीजन के मरने वालों की जिम्मेदारी लेने के लिए भी केंद्र सरकार

की कोई चिंता नहीं है और कोई काम भी सही ढंग से नहीं कर पा रही है। 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »
More from नेताMore posts in नेता »
More from बयानMore posts in बयान »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: