fbpx Press "Enter" to skip to content

किसानों को धोखा देने वाली कांग्रेस झामुमो कर रहे राजनैतिक ड्रामा

  • हेमंत सरकार मुझे सदन में बोलने नही देती

  • राज्य में किसानों की दशा सुधारे यह सरकार

  • कांग्रेस दरअसल अब पूरी तरह हताश हो चुकी है

  • कृषि कानून पर विधानसभा में चर्चा असंवैधानिक: मरांडी

राष्ट्रीय खबर

रांचीः किसानों को धोखा देने का आरोप पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने लगाया है।

उन्होंने विधानसभा में कृषि कानूनों पर चर्चा में भाग लेने से भाजपा के इंकार के बाद ऐसा

कहा है। भारतीय जनता पार्टी के विधायक दल के नेता व पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने

कांग्रेस झामुमो को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि लोकसभा, राज्यसभा से पास कृषि कानून

पर विधानसभा में चर्चा किया जाना असंवैधानिक है।

कांग्रेस झामुमो किसानों को धोखा देने का कार्य कर रही है। चुनाव में भी बड़े बड़े वादे कर

किसानों को धोखा देने का कार्य किया है। झारखंड के किसान खुद को ठगा महसूस कर रहे

हैं। उन्होंने कहा कि आगामी 22 तारीख को विधानसभा सत्र के दौरान कृषि कानून पर

आहूत चर्चा को लेकर प्रदेश कार्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस

पार्टी हताशा में है। कांग्रेस को अहसास हो चुका है कि देश की सत्ता में वे कभी नहीं लौटेंगे।

यही कारण है कि कई मुद्दों पर बेवजह विरोध दर्ज करवाना, कृषि कानून पर चर्चा करना,

यह लोकतंत्र में गलत परिपाटी शुरू कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और

कृषि मंत्री ने कहा है कि विपक्ष कानून में खामियां बताए सदन में चर्चा को तैयार हैं इसके

बावजूद कांग्रेस बेवजह इस मुद्दे पर राजनीति कर रही है। 2019 में राहुल गांधी ने कहा था

एपीएमसी हटाने की बात की थी। मोदी सरकार ने मंडी व्यवस्था को यथावत बने रहने

दिया है। किसानों को कृषि कानून के तहत अतिरिक्त विकल्प दिया गया है। उन्होंने कहा

कि कांग्रेस एक तरफ अपने घोषणा पत्र में कृषि सुधार का वादा किया था, वहीं अब इस

कानून पर राजनैतिक ड्रामा कर रही है। कांग्रेस के जमाने में स्वामीनाथन रिपोर्ट आई

किन्तु यह रिपोर्ट धूल फांकता रहा।

किसानों को धोखा से बचाने का हथियार है तीनों कृषि कानून

यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे जमीन पर उतारने का काम किया और कानून बनाने

का कार्य किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और दूसरी विरोधी दल एमएसपी के नाम पर

किसानों को भड़काने की कोशिश कर रही है। जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बार बार कह

चुके हैं एमएसपी व्यवस्था पहले की तरह जारी रहेगा। यहां तक कि फसलों की एमएसपी

और बढ़ा दी गयी है। कांग्रेस ने किसानों के लिए 55 वर्ष में कुछ नहीं किया बल्कि कर्जा

माफी के नाम पर भारी घोटाला किया। किसानों को धोखा देने और गुमराह कर राजनीति

करना कांग्रेस की पुरानी आदत रही है। श्री मरांडी ने कहा कि कांग्रेस झामुमो एक तरफ

कृषि कानून पर असंवैधानिक तरीके से विधानसभा में चर्चा करने को आतुर है वहीं दूसरी

ओर झारखंड में किसानों का बुरा हाल है। झारखंड के किसान अपना धान बिचौलियों को

बेचने को मजबूर हैं। झारखंड की हेमन्त सरकार धान खरीद में फिसड्डी साबित हुई है।

कांग्रेस झामुमो सिर्फ हल्ला करने वाली पार्टी बन गयी है। मालूम हो कि 22मार्च को

विधानसभा में सत्र के दौरान कृषि कानून पर चर्चा आहूत की गई है।जो पूरी तरह

असंवैधानिक है। प्रेस वार्ता में प्रदेश मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक और प्रवक्ता

अविनेश कुमार सिंह मौजूद थें।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from कृषिMore posts in कृषि »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from नेताMore posts in नेता »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: