fbpx

अवैध खनन के मुद्दे पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अब सीरियस

अवैध खनन के मुद्दे पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अब सीरियस
  • पुलिस की गोपनीय जांच रिपोर्ट के बाद बड़ी कार्रवाई

दीपक नौरंगी

पटना: अवैध खनन के मुद्दे पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लगातार शिकायत

मिल रही थी। बिहार में अभी तक अवैध खनन के मामले में यह सबसे बड़ी कार्रवाई बिहार

के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश के बाद की गई है इसके बाद सभी आईएएस और

आईपीएस अधिकारियों में अवैध खनन के मामले को लेकर हड़कंप मच गया है कई

आईपीएस अधिकारियों की नींद भी उड़ती दिख रही है?

इस वीडियो मे समझ लीजिए पूरी रिपोर्ट

बिहार के कई जिले में एसपी से लेकर डीएसपी और पुलिस इंस्पेक्टर, थानेदार तक बालू के

अवैध कारोबार में लिप्त है बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बालू के अवैध खनन के

मामले को लेकर गंभीर हुए थे और कुछ दिन पहले ही दो आईएएस अधिकारी से वार्तालाप

कर पूरे मामले की जानकारी बिहार के डीजीपी एसके सिंघल और एडीजी नैयर हसनैन

खान को एक टीम बनाकर अवैध खनन के मामले की जांच रिपोर्ट मांगी के बाद डीजीपी

एसके सिंघल और आर्थिक अपराध इकाई के एडीजी नैयर हसनैन खान ने बिहार के कई

जिलों में जहां बालू का अवैध कारोबार की बात सामने आ रही थी वहां पुलिस मुख्यालय से

गठित टीम को भेजा और पूरे मामले की जानकारी पुख्ता साक्ष्य के साथ उपलब्ध की फिर

जाकर पूरी जांच रिपोर्ट गृह विभाग को सोमवार को भेज दी गई थी उसके बाद कयास

लगाए जा रहे थे कि अब 2 आईपीएस अधिकारी को सरकार किसी से भी हटा सकती है

अवैध खनन के मामले को लेकर दो जिलों के एसपी बुधवार को हटाए गए हैं। भोजपुर के

एसपी राकेश कुमार दुबे और औरंगाबाद के एसपी सुधीर कुमार पोरिका को बिहार पुलिस

मुख्यालय बुलाया गया है. बुधवार को अधिसूचना जारी कर गृह विभाग ने इन दोनों

पुलिस अधीक्षकों को पटना पुलिस हेडक्वार्टर बुलाया है।

अवैध खनन के अलावा भी पुलिस अफसरों का तबादला

वहीं अवैध खनन के मामले में बिहार सरकार के मुखिया ने कड़ा रुख अख्तियार करते हुए

अवैध खनन में लिप्त प्रशासनिक अधिकारियों को हटाना भी शुरू कर दिया है और एक

एसडीओ व 2 जिला परिवहन पदाधिकारियों को हटाया दिया है। सामान्य प्रशासन विभाग

ने इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी है। बताया जा रहा है कि बालू के अवैध खनन-

परिवहन में विभागीय मिलीभगत के आरोप में इन तीनों अधिकारियों को हटाया गया है।

डेहरी अनुमंडल के एसडीओ सुनील कुमार सिंह को पद से हटाते हुए सामान्य प्रशासन

विभाग में वेटिंग फॉर पोस्टिंग किया गया है। वहीं औरंगाबाद के जिला परिवहन

पदाधिकारी अनिल कुमार सिन्हा को भी पद से हटाया गया है और सामान्य प्रशासन

विभाग में योगदान देने को कहा गया है. जबकि पटना के डीटीओ पुरुषोत्तम को भी हटा

दिया गया है।अवैध खनन के मामले में लिप्त थानेदार और पुलिस इंस्पेक्टर को अब 10

साल तक उनको मुख्यधारा से हटा दिया जाएगा उनको किसी भी थाने का 10 साल तक

थानेदार नहीं बनाया जाएगा बिहार पुलिस मुख्यालय ने अवैध खनन माफियाओं को

संरक्षण देने वाले पटना जिले के तीन थानेदारों समेत दो दर्जन दारोगा-इंस्पेक्टर को

स्थानांतरित किया गया था।

बिहार सरकार ने स्थानांतरित पुलिस अधिकारियों की पदस्थापना की नई सूची जारी कर

दी है। इसके तहत कांतेश कुमार मिश्र को औरंगाबाद, विनय तिवारी को भोजपुर, स्वर्ण

प्रभात को सिटी एसपी भागलपुर, विनीत कुमार को ग्रामीण एसपी पटना, अंबरीश राहुल

को सिटी एसपी पटना बनाया गया है।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Rkhabar

Rkhabar

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: