fbpx Press "Enter" to skip to content

नामकुम के चुरनी जलप्रपात भी गुमनामी के अंधेरे में

नामकुमः नामकुम जिला मुख्यालय से लगभग 22 किमी दूर प्रखंड के सिल्वे पंचायत

अंतर्गत करमा डिपा गांव में स्थित जलप्रपात की सुंदरता इन दिनों पूरे शबाब पर है।

लगभग 90 फीट ऊंची पहाड़ी से गिरता दुधिया पानी किसी को भी अपने मोहपाश में बांध

लेता है। चट्टानों पर गिरती पानी की तेज धार देखते बनती है। पहाड़ियों से घिरा इस

जलप्रपात का असल स्वरूप बरसात में जिस तरह निखरता है वह न केवल मनमोहक है

बल्कि देखनेवाला एक बार अपनी सुध बुध खोकर अपलक निहारने को मजबूर हो जाता है

। यह जलप्रपात मनमोहक और खूबसूरत होने के बावजूद भी अपनी पहचान को मोहताज

है । इसे प्रचारित करने , सैलानियों के दीदार के लिये अबतक न तो प्रशासन और न तो

पर्यटन विभाग की तरफ से कोई प्रयास किया गया है नतीजन नामकुम का यह ऊँचा

जलप्रपात आज गुमनामी के अंधेरे में है । इसे विकसित किया जाये तो पर्यटन के लिहाज

से नामकुम प्रखण्ड को एक नई पहचान निश्चित ही मिलेगी । प्रखंड में वैसे तो प्रकृति के

खूबसूरत नजारों की कोई कमी नहीं है, बावजूद इसके जलप्रपात तक पहुंचने का रास्ता

यदि सुगम बना दिया जाए व इस खूबसूरत स्थान का पर्यटन स्थल के रूप में विकास कर

दिया जाए, तो जिला में यह अपनी विशेष पहचान बना सकता है । कुछ दूरी तक रास्ता

दुर्गम होने के कारण यह स्थान ज्यादातर लोगों की जानकारी से दूर है। हालांकि बारह माह

में तीन माह पानी का बहाव रुक जाती है ।

कैसे पहुंचे चुरणी जलप्रपात –

नामकुम के चुरणी झरना देखने भी पहुंचने लगी भीड़

राँची पुरुलिया मार्ग पर महिलांग टाटीसिलवे होते हुए मिलन चौक से लगभग 4

किलोमीटर की दूरी पर यह जलप्रपात स्थित है । इस फॉल पर सड़क मार्ग के साथ आसानी

से पहुंचा जा सकता है । बता दें कि इस जलप्रपात में गूंगा नाला का पानी बहती है ।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यटन और यात्राMore posts in पर्यटन और यात्रा »
More from रांचीMore posts in रांची »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: