fbpx Press "Enter" to skip to content

चित्तौड़गढ़ में आठ इंच बरसात से जनजीवन अस्त व्यस्त




चित्तौड़गढ़ः चित्तौड़गढ़ शहर में मंगलवार रात आठ इंच बरसात होने से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया।

प्री मानसून की भारी बारिश से एक तालाब में अचानक पानी की आवक बढने से

डेढ़ सौ से अधिक भेड़ों की मौत हो गई जबकि शहर में प्रवेश के कई रास्ते अवरूद्ध हो गये।

शहर के कई मार्ग पानी से अवरुद्ध हो गये

जल संसाधन विभाग के अनुसार चितौड़गढ़ जिले में पिछले चार दिनों से विभिन्न जगहों पर

हो रही बरसात ने मंगलवार रात को तेज हो गई और जिले के कई तहसील क्षेत्रों में चार इंच से अधिक बरसात हुई।

विभाग के अनुसार आज सुबह आठ बजे समाप्त तक पिछले चौबीस घंटों के दौरान चित्तौड़गढ़ तहसील में 195 मिलीमीटर बरसात दर्ज की गई

जबकि सबसे कम भैंसरोड़गढ़ में 30 मिमी बारिश हुई जबकि कपासन में 114 मिमी दर्ज की गई।

जिले के सबसे बड़े गंभीरी बांध पर 90 मिमी, बस्सी बांध पर 74 मिमी एवं कपासन तालाब पर 107 मिमी बरसात रिकॉर्ड की गई।

भारी बरसात से शहर में नाले उफान पर आ गये, जिससे शहर में प्रवेश के सभी मार्ग अवरूद्ध हो गये

इस दौरान कपासन मार्ग पर बोदियाने नाले का पानी सड़क पर आ गया

और करीब पानी भर जाने से एक यात्री बस फंस गई।

शहर के कई अन्य इलाके भी अचानक हुई इस बारिश की वजह से प्रभावित हुए।

चित्तौड़गढ़ में बचाव दल ने अनेक लोगों को सुरक्षित निकाला

सभी यात्री बस की छत पर चढ गये। प्रशासन को जानकारी मिलने पर बचाव दल मौके पर पहुंचा

और यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाला गया।

शहर में रात को घरों में करीब एक फुट तक पानी भर गया।

समीपवर्ती सतपुड़ा तालाब में डेरा जमाकर बैठे मारवाड़ के चरवाहों को रात को पता नहीं चला

और तालाब में तेजी से पानी की आवक बढ़ने से उनकी डेढ़ सौ से अधिक भेड़ों की डूबने से मौत हो गई।

सुबह सूचना मिलने पर प्रशासनिक अधिकारी एवं विधायक चंद्रभान सिंह भी मौके पर पहुंचे

एवं चरवाहों को राहत प्रदान की गई।



Rashtriya Khabar


Be First to Comment

Leave a Reply

WP2FB Auto Publish Powered By : XYZScripts.com