fbpx Press "Enter" to skip to content

चीन और पाकिस्तान आईएसआई म्यांमार में भी दे रहे हैं आतंकवादियों को ट्रेनिंग

  • म्यांमार में भी सर्जिकल स्ट्राइक कर सकता है भारत
  •  पड़ोसी देशों की साजिश का बड़ा खुलासा
  •  आईएसआई रोहिंग्याओं को दे रहा प्रशिक्षण
  • इंफाल में एनआईए के अभियान से जानकारी
भूपेन गोस्वामी

इंफाल : चीन और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई म्यांमार में भी आतंकवादी

समूहों को ट्रेनिंग दे रही है। उसका मकसद सीमा पार आतंकवाद को बढ़ावा देकर भारत को

दूसरी दिशा में उलझाने की कोशिश हो रही है।इंफाल में असम राइफल्स के एक वरिष्ठ

कमांडेंट ने इस संवाददाता से कहा कि जमात उल मुजाहिदीन बांग्लादेश द्वारा 40

रोहिंग्याओं को आतंकी प्रशिक्षण देने में आईएसआई की संलिप्तता हो सकती है। भारतीय

सेना के खुफिया एजेंसी की रिपोर्ट के आधार पर कमांडेंट ने कहा कि वह आतंकवाद को

पाल-पोस कर अफगानिस्तान व भारत जैसे देशों में हमले कराकर क्षेत्रीय अस्थिरता पैदा

करना चाहता है। सैन्य अधिकारियों के मुताबिक, बांग्लादेश-म्यांमार सीमा में सक्रिय

रोहिंग्या विद्रोही समूह अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी ने अपनी गतिविधियां बढ़ा दी

हैं। इसके सदस्य शरणार्थी शिविरों में सक्रिय हैं, पाकिस्तान और चीन इनकी लगातार

मदद कर रहा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और चीन आतंकी समूहों को मदद कर

भारत को अस्थिर करने की कोशिश कर सकता है।ऐसे मामलों में बांग्लादेश भारत की

मदद करता आया है  ताकि उत्तर-पूर्व भारत में होने वाली साजिश को रोका जा सके।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आतंकी समूहों को मदद कर भारत को अस्थिर करने के

नापाक मंसूबे पाल रहा है।अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी के लोग रात में शरणार्थी कैंप

में एक्टिव रहते हैं और दिन में गायब हो जाते हैं ।

इसका लीडर अता उल्लाह पाकिस्तान में पैदा हुआ

लेकिन उसका सऊदी कनेक्शन भी है। इसकी पूरी टीम सैन्य रणनीति में माहिर है, इनके

 

पास अत्याधुनिक हथियार भी हैं। बांग्लादेश-म्यांमार सीमा पर एक्टिव इस संगठन को

 

पाकिस्तानी आतंकी संगठन तहरीक ए तालिबान (पाकिस्कान) से ट्रेनिंग मिली है। भारत

की खुफिया एजेंसी रिपोर्ट मिलते हुए ही केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी

एनआईए की इंफाल में अतिरिक्त शाखाओं स्थापित करने की मंजूरी दे दी है।

एनआईए भारत की एक राष्ट्रीय जांच एजेंसी है, जो आतंकी गतिविधियों को रोकने और

भारत में आतंकवाद को समाप्त करने की दिशा में कार्य करती है। देश में इस समय इसकी

नौ शाखाएं गुवाहाटी, मुंबई, जम्मू, कोलकाता, हैदराबाद, कोच्चि, लखनऊ, रायपुर और

चंडीगढ़ में हैं। अब इंफाल सहित तीन और को मंजूरी दे दी गई है। इस एजेंसी को आतंकी

गतिविधियों की जांच में विशेषज्ञता हासिल हैं। सरकार का मानना है कि नई शाखाओं से

इन राज्यों में आतंकरोधी मोर्चे पर प्रभावी तरीके से काम करने, समय से सूचना हासिल

करने और घटनाओं को रोकने में मदद मिलेगी। सुरक्षा अधिकारी ने यह भी कहा कि

पड़ोसी देशों की साजिश का खुलासा हुआ है, इसलिए भारत ने म्यांमार सीमा पर

आतंकवाद गतिविधियों को रोकने के लिए इंफाल में एक एनआईए अभियान शुरू किया

है। केंद्र सरकार भारत-म्यांमार सीमा पर मुक्त आवागमन फिर से शुरू करने की प्रक्रिया

में है ताकि सीमावर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों को कोई परेशानी ना हो। उन्होंने कहा,

‘सीमा पर व्यापार को बढ़ावा देने के लिए भी कदम उठाए जा रहे हैं। इससे यह भी

सुनिश्चित होगा कि सीमा पर गैरकानूनी तस्करी और अन्य अवैध गतिविधियों पर

लगाम लगाई जाए।

चीन – पाकिस्तान में भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक का संकेत दिया है

बता दें कि सेना अधिकारी ने आतंकियों को चेतावनी देते हुए कहा है कि पिछले वर्ष

नियंत्रण रेखा के पार जाकर की गई सर्जिकल स्ट्राइक पाकिस्तान के लिए  एक संदेश था,

और उन्होंने आवश्यकता पड़ने पर और भी इस तरह म्यांमार सीमा में फिर  से भारत

विरोधी सक्रिय विद्रोही समूह की खत्म करने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक का संकेत

दिया है।इससे पहले भी सेना ने म्यांमार और पाकिस्तान की सीमा में घुसकर आतंकियों

को मौत के घाट उतारा है। इस कार्रवाई में सेना ने पीओके में घुसकर आतंकी ठिकानों को

नष्ट किया था।

[subscribe2]

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from मणिपुरMore posts in मणिपुर »
More from रक्षाMore posts in रक्षा »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: