Press "Enter" to skip to content

मुख्य सचिव डीके तिवारी ने कहा विभागीय सचिव हर हाल में फील्ड में जाएं




रांची: मुख्य सचिव डीके तिवारी ने अपने पूर्व के निदेर्शों की समीक्षा करते हुए एक बार फिर

जोर देकर कहा कि सचिव माह में एक बार फील्ड में जाना हर हाल में सुनिश्चित करें।

उन्होंने कहा कि सचिव दौरा कर क्षेत्र विशेष की जमीनी हकीकत से वाकिफ होंगे।

कई मसलों का हल वे मौके पर कर सकेंगे।

साथ ही क्षेत्र का दौरा करने से अन्य अधिकारियों और कर्मियों का मनोबल भी बढ़ेगा।

साथ ही इस प्रक्रिया से निगरानी का एक सिस्टम भी विकसित होगा।

उन्होंने विभागों में अनियमित साप्ताहिक समीक्षा बैठक पर नाराजगी जताते हुए कहा कि

इससे काम का साप्ताहिक एजेंडा तय नहीं हो पा रहा है।

उन्होंने कहा कि बिना एजेंडा तय किए काम करने से अपेक्षित लक्ष्य प्राप्त नहीं किया जा सकता।

उन्होंने साप्ताहिक समीक्षा बैठक में विभाग के स्तर पर चल रहीं योजनाओं पर चर्चा करने पर भी बल दिया।

मुख्य सचिव अप्रैल में सभी सचिवों और विभाग प्रमुखों को संबोधित अपने पत्र के बिन्दुओं पर

कार्रवाई की समीक्षा कर रहे थे।

मुख्य सचिव ने मासिक बैठक के दौरान विभाग के माध्यम से चल रही योजनाओं की प्रगति की

समीक्षा करने को कहा।

कहा कि इससे अधिकारियों से लेकर कर्मियों तक को पता रहेगा कि चालू योजना की स्थिति क्या है।

विचार-विमर्श से इसका आइडिया भी आएगा कि योजनाओं के क्रियान्वयन में कोई रुकावट आ रही है,

तो उसे ससमय कैसे दूर किया जाए तथा बेहतरी के लिए और क्या किया जा सकता है।

मुख्य सचिव ने मासिक बैठक की कार्यवाही की रिपोर्ट मेल से उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया।

मुख्य सचिव ने ईमेल से भी मासिक कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी

श्री तिवारी ने तमाम विभागों को एक बार फिर अपने कार्यों व उपलब्धियों से जुड़ा बुकलेट बनाने का निर्देश दिया।

उन्होंने कहा कि हम जो कर रहे हैं, उसे हम तो जानते हैं, लेकिन जिसके लिए कर रहे हैं उसे भी इसकी जानकारी होनी चाहिए।

इसके लिए उन्होंने बुकलेट में महत्वपूर्ण उपलब्धियों को सहेजने पर बल दिया।

उन्होंने निर्देश दिया कि बाहर से आनेवाले आगंतुकों को बुकलेट दें।

इससे विभाग क्या कर रहा है, यह जानकारी पब्लिक डोमेन में जाएगी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
More from Hindi NewsMore posts in Hindi News »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »

Be First to Comment

Leave a Reply