fbpx Press "Enter" to skip to content

कोरोना की रोकथाम के प्रयासों के बीच मुख्यमंत्री की कड़ी चेतावनी

  • मास्क और सैनेटाइज़र की कालाबाजारी अपराध है

  • हेमंत सोरेन ने खुद की भी जांच करायी

  • सोशल मीडिया से मिली थी शिकायत

  • देवघर में हो चुकी है दुकान पर कार्रवाई

संवाददाता

रांचीः कोरोना की रोकथाम के प्रयासों के बीच मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने यह स्पष्ट कर

दिया है कि ऐसे अवसरों पर जरूरी सामानों की कालाबाजारी अपराध है। उन्होंने खास

तौर पर कहा है कि मास्क और सैनेटाइजर अधिक कीमत पर बेचने की शिकायत पाये

जाने पर सरकारी कड़ी कार्रवाई करेगी। श्री सोरेन ने आज खुद विधानसभा परिसर में

अपने शरीर के तापमान का स्कैन कराया। इस काम के लिए वहां सदर अस्पताल के

स्वास्थ्य कर्मचारी पहुंचे थे। जांच में मुख्यमंत्री के शरीर का तापमान सामान्य पाया

गया। यह कोरोना वायरस की वजह से सामान्य जांच प्रक्रिया थी।

मुख्यमंत्री को सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी मिली कि रांची में मास्क और

सैनीटाइज़र को अधिक मूल्य पर बेचा जा रहा है। मुख्यमंत्री ने मामले की गंभीरता को

देखते हुए उपायुक्त रांची और पुलिस को मामले में संज्ञान लेते हुए उचित दण्डात्मक

कार्रवाई करने का निदेश दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी विक्रेताओं को मालूम है

और उन्हें समझना चाहिए कि मास्क और सैनेटाइज़र आवश्यक वस्तु अधिनियम

1955 के दायरे में आते हैं, इसलिए इनकी कालाबाजारी एवं उचित मूल्य से अधिक दर

पर बेचना अपराध है।

कोरोना की रोकथाम पर हिदायत शिकायत के बाद

उल्लेखनीय है कि सोशल मीडिया के माध्यम से ही कुछ लोगों ने रांची के एक प्रतिष्ठित

दवा दुकान और राज्य के कुछ अन्य हिस्सों में मास्क और सैनेटाइजर की बिक्री अधिक

कीमत पर होने की शिकायत मिली थी। श्री सोरेन ने त्वरित कार्रवाई करते हुए जिला

प्रशासन को मामले की जांच कर उचित कार्रवाई कर सुनिश्चित करने का निर्देश भी

जारी कर दिया था। लोगों की शिकायत है कि पूरे राज्य में अचानक से इन दोनों वस्तुओं

की कीमतों पर बढ़ोत्तरी दुकानदारों द्वारा कर दी गयी है। देवघर में इस किस्म की

कार्रवाई की वजह से वहां की एक दुकान के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई पहले ही की जा

चुकी है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Comments

Leave a Reply

Open chat
Powered by