fbpx Press "Enter" to skip to content

चास के श्रीराम सेल्स में लगी आग किसी तरह लोगों ने जान बचायी

  • दमकल की दर्जनों गाड़ियां ने आग पर पाया काबू

  • परिवार के लोगों ने एक छत से दूसरे छत में कूदे

  • दम घुटने से मारा गया घर का पालतू कुत्ता

बोकारोः चास में आग की लपेटे दुकान के ऊपर तल्ले में स्थित आवासीय परिसर भी संपर्क

में आ गयी। जिससे परिवार के लोगों ने किसी तरह छत से दूसरे छत में कूद कर अपनी

जान बचायी। आग लगने से आस-पास दुकानों में अफरा-तफरी का मौहाल बन गया।

जबतक घटना की सूचना फायर ब्रिगेड को दी गई। तबतक आग ने भयानक रूप ले लिया।

मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की दर्जनों गाडियां ने पांच से छह घंटे की काफी मशक्कत के

बाद आग में काबू पाया गया। दुकान के मालिक राजेश जायसवाल एवं दिनेश जायसवाल

ने बताया कि शॉर्ट सर्किट के कारण यह आग लगी। दुकान के अंदर टीवी, फ्रिज, एसी,

इनवर्टर बैटरी एवं अन्य सामान जलकर राख हो गये।

आग से लाखों के नुकसान की आंशका

बताया जा रहा है कि सुबह करीब 9.15 बजे लोगों ने श्रीराम सेल्स के फस्र्ट फ्लोर पर धुआं

निकलते देखा। जबतक इसकी सूचना फायर ब्रिगेड को दी गयी। तबतक आग ने विकराल

रूप ले लिया। जिस जगह आग लगी है वहां गलीनुमा मार्केट है। श्रीराम सेल्स के जिस

फ्लोर पर आग लगी है वहां इलेक्ट्रॉनिक आइटम रखी जाती है। हालांकि आग लगने से हुए

नुकसान का पता नहीं चल सका, लेकिन लाखों के नुकसान की आशंका जताई जा रही है।

चास के इस प्रतिष्ठान में सात साल पूर्व भी लगी थी आग

जानकारी के मुताबिक, श्रीराम सेल्स में सात साल पूर्व भी आग लगी थी। उस वक्त लाखों

रुपए के सामना जलकर राख हो गए थे। आग लगने का कारण शार्ट सर्किट बताया गया

था। सतीश जायसवाल ने बताया कि आग लगने के तुरंत बाद ही फायर ब्रिगेड का नंबर

नही पता होने से 100 नंबर पर डायल किया जंहा किसी प्रकार को कोई रिस्पांस नही

मिला। तत्काल मैंने इसकी सूचना व तस्वीर व्हाट्सएप के माध्यम से एसपी को दी। काफी

समय बाद भी जब कार्रवाई नहीं हुई तो झारखंड सरकार के फायर ब्रिगेड के कार्यालय में

जाकर इसकी सूचना दी तब जाकर दमकल की गाड़ियों मौके पर पहुंची। उन्होंने कहा कि

अगर समय रहते कारवाई की जाती तो नुकसान कम होता।

आग के धुंए में दम घुटने से क्विनी की मौत

शुक्रवार को श्रीराम सेल्स दुकान के साथ ऊपर तल्ला में स्थित आवासीय परिसर में भी

आग लग गई थी। दमकल कर्मी ने पांच से छह घंटे के कड़ी मशक्कत के बाद आग पर

काबू पा लिया। इस घटना में किसी भी सदस्यों को जान माल का नुकसान तो नहीं हुआ,

लेकिन चास के इस हादसे में एक बेजुबान जानवर की इस घटना में मौत हो गयी। आपको

बता दे कि आग के धुएं से दम घुटने से जर्मन शेफर्ड नस्ल का कुत्ता जिसका नाम क्विनी

था उसकी मौत हो गयी।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बोकारोMore posts in बोकारो »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from हादसाMore posts in हादसा »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!