Press "Enter" to skip to content

मौसम के बदलाव के अजीब संकेत अलग अलग देशों से मिल रहे हैं




  • चीन में बर्फीले तूफान की चेतावनी

बीजिंगः मौसम के बदलाव की वजह से चीन के अनेक इलाकों में समय से पहले ही बर्फवारी प्रारंभ हो चुकी है। इसका नतीजा है कि चीन की राजधानी बीजिंग में बर्फवारी प्रारंभ हो गयी है।




यूं तो लोग इस बर्फवारी का आनंद उठा रहे हैं लेकिन मौसम विभाग ने वहां बर्फीले तूफान के लिए नारंगी चेतावनी संकेत जारी कर दिया है।

उत्तरी चीन में यह तूफान आने की आशंका है। इस तूफान के और जोरदार होने की स्थिति में विमान और रेल सेवा को भी बंद करने की नौबत आ सकती है।

वैसे अचानक से बर्फ गिरना प्रारंभ होने की वजह से कई प्रमुख संपर्क मार्गों पर यातायात बाधित हो गया है।

दिन में बर्फ गिरने से बीजिंग के लोगों ने उसका आनंद उठाया। समय से पूर्व वहां बर्फवारी होने की वजह से लोग घूमने निकल पड़े क्योंकि यह छुट्टी का दिन था।

लेकिन मौसम विभाग ने मंगोलिया और पश्चिमी इलाकों के बारे में चेतावनी दी है। जिसके बारे में यह भी आशंका है कि यह आगे बढ़कर और शक्तिशाली बर्फीले तूफान में तब्दील हो सकता है।

कई इलाकों में 11 ईंच बर्फवारी की चेतावनी दी गयी है जो इस मौसम के लिहाज से सामान्य घटना नहीं है।

इसी वजह से चेतावनी संकेत को नारंगी कर दिया गया है। उसके बाद और हालत बिगड़ने क बाद लाल चेतावनी संकेत जारी किया जा सकता है।

वैसे आम तौर पर बर्फवारी के बाद उसे साफ करने का नियम है लेकिन जिन इलाकों में अभी कोरोना का असर दिख रहा है, वहां इस काम को रोक दिया गया है ताकि इसी सफाई के जरिए कोरोना संक्रमण और ना फैल सके।




मंगोलिया के इलाके से चला तूफान अब और पश्चिमी इलाकों की तरफ बढ़ गया है। इसलिए नजर रखी जा रही है कि कहीं यह अचानक दिशा बदलकर वापस नहीं लौट आये।

मौसम के बदलाव से बोस्निया के कई इलाकों में बाढ़

साराजेवोः अप्रत्याशित बारिश से बोस्निया में कई किस्म की परेशानियां एक साथ खड़ी हो गयी हैं।

अचानक हुई इस भारी बारिश की वजह से अचानक बाढ़ आ गयी और उसकी वजह से अनेक इलाकों में बिजली भी गुल हो गयी।

आनन फानन में निचले इलाकों में बसे लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया गया। इस दौरान इतनी तेजी से बाढ़ का पानी आया कि कई इलाको में खड़ी कारें भी उसमें डूब गयी।

इसे भी मौसम के बदलाव से जोड़कर ही देखा जा रहा है क्योंकि जो इलाके प्रभावित हुए हैं, वहां अचानक से इतनी अधिक बारिश इस मौसम में नहीं हुआ करती थी।

बोस्निया के अलावा हेरजेगोविना में भी लोगों को बचाकर निकालने की नौबत आयी है। इन इलाकों में अचानक से बिजली गुल होने क वजह से कोरोना और अन्य गंभीर किस्म के रोगियों के लिए ऑक्सीजन का भी संकट उत्पन्न हो गया था।

ऐसी स्थिति कई इलाकों में आयी थी। दरअसल साराजेवो के निचले इलाके में स्थापित एकमात्र मान्यता प्राप्त ऑक्सीजन प्लांट और आस पास के इलाकों को बाढ़ का पानी आते देख खाली कराना पड़ा था।

अब यह ऑक्सीजन प्लांट पूरी तरह बाढ़ के पानी में डूबा हुआ है। इसलिए पानी उतरने बाद उसकी समुचित सफाई के बाद ही उससे ऑक्सीजन का उत्पादन प्रारंभ किया जा सकता है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक बोस्निया, तिलावा और झेलिजनिका नदी के पास बसे इलाकों से लोगों को हटाना पड़ा है क्योंकि मौसम के बदलाव की वजह से यह नदियां अभी उफान पर हैं।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »
More from मौसमMore posts in मौसम »
More from विश्वMore posts in विश्व »

One Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: