fbpx Press "Enter" to skip to content

चंबल घाटी का कुख्तात डाकू सलीम रक्षाबंधन के दिन ही मारा गया




इटावाः चंबल घाटी का कुख्यात दस्यु सरगना सलीम गूर्जर साल 2006 में रक्षाबंधन के दिन

अपनी प्रेमिका गीता के साथ उत्तर प्रदेश की इटावा पुलिस की मुठभेड़ मे मारा गया था।

पुलिस सूत्रो के अनुसार साल 2006 मे रक्षाबंधन के ही दिन चंबल घाटी के खूंखार दस्यु सरगना

सलीम गुज्जर और उसकी प्रेमिका गीता जाटव को उत्तर प्रदेश में औरैया जिले के अयाना इलाके मे

कैथोली के जंगलो मे हुई एक मुठभेड़ मे मार गिराया गया था।

रक्षा बंधन के दिन हुई मुठभेड़ के बारे मे पुलिस की तरफ से कहा गया था कि

सलीम गूर्जर अपनी बहन से राखी बंधवाने आया हुआ था

लेकिन उससे पहले पुलिस को इस बात की भनक लग गई।

उसके बाद पुलिस ने मुठभेड़ के बाद सलीम और गीता दोनों को मार गिराया था।

कानपुर रेंज के डीआईजी दलजीत चौधरी की अगुआई वाली पुलिस टीम ने मुठभेड़ कर मौके से

एक मशीन गन, एक डबल बैरल बंदूक और भारी मात्रा में कारतूसो को बरामद किया।

सलीम के सिर पर 1.5 लाख रुपये का नकद इनाम था।

इटावा के एसएसपी रहने के दरम्यान दलजीत सिंह चौधरी के अगुवाई मे चंबल के कई नामी खूंखांर

डाकुओं का सफाया किया गया।

इटावा और आसपास के लोगों के जहन में आज भी दलजीत सिंह के समय डाकुओं के हुए

खात्मे की यादें जुडी हुई है। इन्ही में से एक सलीम गूर्जर का भी एनकाउंटर भी रहा है।

चंबल घाटी में इस दिन इस घटना को याद भी किया जाता है




इस मुठभेड़ के बाद तत्कालीन पुलिस महानिदेशक बुआ सिंह ने मुठभेड़ में शामिल

दस एसओजी कर्मियों के लिए पदोन्नति की घोषणा की।

सलीम गुर्जर राजस्थान, यूपी, मध्यप्रदेश और दिल्ली में अपहरण और अपराध के अन्य मामलों के

100 से अधिक मामलों मे पुलिस के निशाने पर था।

करीब 45 मिनट चली मुठभेड़ के बाद जब फायरिंग बंद हो गई, तो पुलिस को दो शव मिले,

जिन्हें बाद में सलीम और उनके प्रेमिका गीता के रूप में पहचाना गया ,

जिसके भी उसके सिर पर 10,000 रुपये का इनाम था।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •