fbpx Press "Enter" to skip to content

असम और मिजोरम सीमा पर अशांति के लेकर अमित शाह का कड़ा रुख

  • मामले की उच्च स्तरीय जांच अब एनआईए करेगी

  • अशांत सीमा क्षेत्र में केंद्रीय बल की तैनात किये गये

  • लगातार सलाह देने के बाद अब केंद्र के तेवर हुए तीखे

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी: असम और मिजोरम के लोगों के बीच फिर से हिंसक झड़प हुई है। घटना के बाद

दोनों राज्यों की सीमा पर तनाव पैदा हो गया है। पिछले 15 दिनों में मिजोरम मे गुरुवार

को असम से कोई भी ट्रक राज्य में प्रवेश नहीं कर पाया क्योंकि दोनों राज्यों को जोड़ने

वाले राष्ट्रीय राजमार्ग 306 पर मार्ग अवरूद्ध है।असम सरकार ने फैसला किया है कि वे

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा मिजोरम के सीमावर्ती क्षेत्रों से बदमाशों द्वारा एक

असमिया युवक के अपहरण और हत्या की उच्च स्तरीय जांच करेंगे।इस मामले की

गंभीरता का एहसास इस बात से किया जा सकता है कि राज्य के वन एवं उत्पाद मंत्री

परिमल शुक्लावैद्य ने मुख्य सचिव एवं पुलिस महानिदेशक के अलावा अन्य

उच्चाधिकारियों के साथ काचर जिले के लैलापुर इलाके में सीमावर्ती इलाकों का दौरा कर

रहे हैं। शुक्लावैद्य ने कहा कि राज्य सरकार इस घटना की उच्च स्तरीय जांच कराएगी।

उन्होंने कहा कि सरकार इस मामले को एनआईए को सौंपने पर भी निर्णय लिया है। एक

आधिकारिक सूत्र ने कहा कि आगामी असम विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए,

कुछ लोग राजनीतिक लाभ लेने के लिए असम मिजोरम सीमा पर अशांति फैला रहे हैं।

खुफिया रिपोर्ट के अनुसार, गृह मंत्री अमित शाह ने असम सरकार को निर्देश दिया है कि

वह राष्ट्रीय जांच एजेंसी द्वारा मामले की जांच करे। इसलिए, असम सरकार ने इस घटना

को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को जांच के लिए सौंप दिया है।असम के मुख्य सचिव

जिष्णु बरुआ ने आज कहा है कि मिजोरम के साथ अंतरराज्यीय सीमा पर तैनाती के लिए

केंद्रीय बल जल्द ही राज्य पहुंच रहे हैं। बरुआ ने संवाददाताओं से कहा कि ‘एक या दो दिन

में बल के’ पहुंचने के बाद उनकी तैनाती कछार और करीमगंज की सीमा से लगते क्षेत्रों में

होगी।

असम और मिजोरम की सीमा पर केंद्रीय दलों की तैनाती

उन्होंने कहा, ‘‘जब बल की तैनाती यहां हो जाएगी तो दोनों ही तरफ शांति होगी। मुख्य

सचिव ने कछार और करीमगंज जिला प्रशासन के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे

मिजोरम से लगती सीमा पर लैलापुर और मेडलीचेरा क्षेत्र में लगातार निगरानी रखें।

मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक भास्कर ज्योति महंता ने मिजोरम से लगती

अंतरराज्यीय सीमा पर कानून-व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की। इस दौरान कई

पुलिस उपायुक्त, कई पुलिस अधीक्षक समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे।

मुख्य सचिव ने कहा कि वे यहां मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के निर्देश पर कानून-

व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा करने और ‘सीमा के उस हिस्से (मिजोरम) में अपराधियों

के हाथों मारे गए व्यक्ति’ के परिवार से मिलने आए हैं। उन्होंने बताया कि पीड़ित के

परिवार को पांच लाख रुपये की सहायता राशि दी गई है। बरुआ ने कहा, ‘‘मैं चिंतित हूं कि

एक निर्दोष व्यक्ति की जान संभावित रूप से अपराधियों की वजह से गई। हम इस संबंध

में विस्तृत जांच करना चाहते हैं।

पिछले माह से ही इस इलाके में तनाव

पिछले महीने से ही असम-मिजोरम सीमा पर तनाव पसरा हुआ है क्योंकि यहां स्थित कई

घरों को अपराधियों ने क्षतिग्रस्त किया था, जिसके बाद दोनों राज्यों के अधिकारियों के

बीच बातचीत चल रही है। असम के कछार जिले के 45 वर्षीय व्यक्ति इंताजुल लस्कर की

मौत सोमवार को एक अस्पताल में हो गई। असम सरकार का दावा है कि व्यक्ति का

अपहरण किया गया जबकि मिजोरम के अधिकारियों का कहना है कि लस्कर मादक

पदार्थ की तस्करी करता था और वह बचने की कोशिश के दौरान गंभीर रूप से जख्मी हो

गया और उसकी मौत हो गई।

असम के मुख्य सचिव ने कहा कि समस्या का शांतिपूर्ण समाधान तलाशने के लिए सभी

संभावित कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह एक अंतरराज्यीय मुद्दा है, दो अलग

समुदायों के बीच का मामला है और इसका निपटारा शांतिपूर्ण तरीके के अलावा किसी और

अन्य तरीके से करने का सवाल ही नहीं पैदा होता है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from उत्तर पूर्वMore posts in उत्तर पूर्व »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »

One Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: