Press "Enter" to skip to content

केंद्र सरकार का डीए बढ़ाने का ऐतिहासिक फैसला




सात साल बाद बढ़ा कर्मचारियों का भत्ता

कैंटीन भत्ता भी अब दोगुना मिलेगा

डीए की बढ़ोत्तरी के साथ जोड़ा गया

ईएसआई की दरों में हुई कटौती

नियोक्ताओं को भी मिलेगा लाभ


नई दिल्ली : केंद्र सरकार का एक फैसलादेशभर के केंद्रीय कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर है।

सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के कैंटीन भत्ते को बढ़ाकर दोगुना कर दिया है।

करीब 7 साल बाद केंद्रीय कर्मचारियों के भत्ते में बढ़ोतरी की गई है।

अब केंद्र सरकार का हर कर्मचारी पहले से दो गुणा कैंटीन भत्ता भी पायेगा।

इसके साथ ही यह भी तय किया गया है कि जब भी महंगाई भत्ता की वृद्धि 50 फीसदी तक होगी

तो कैंटीन भत्ता में भी 25 फीसदी की वृद्धि की जाएगी।

केंद्र सरकार का फैसला 1 जनवरी 2017 से लागू 

सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में दोगुने की बढ़ोतरी कर दी है।

ये बढ़ोतरी 1 जनवरी 2017 से लागू मानी जाएगी।

अब कर्मचारियों को 750-1050 रुपए कैंटीन भत्ता हर महीने मिलेगा।

सात ही साथ में ये भी कहा गया है जब भी महंगाई भत्ते में वृद्धि 50 फीसदी तक होगी

कैंटीन भत्ते में 25 फीसदी की बढ़ोतरी की जाएगी।

ईएसआई दर में कटौती

केंद्र सरकार ने कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआई) के स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम में अंशदान में कटौती की है।

मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए ईएसआई के स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम में नियोक्ता और कर्मचारियों के कुल अंशदान को 6.5 प्रतिशत से घटाकर 4 प्रतिशत करने का फैसला किया है।

नई दर 1 जुलाई से लागू हो जाएगी। इस फैसले से कर्मचारियों को कैसे लाभ पहुंचेगा इसे जानना भी जरूरी है।

वहीं नियोक्ताओं के लिए ये फैसला कितना लाभकर है इसे जानने के लिए कुछ आंकड़ों पर नजर डालते हैं।

ईएसआई कर्मचारियों को मिलेगी राहत

कर्मचारियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के मकसद से सरकार ने कर्मचारी राज्य बीमा (ईएसआइ) अधिनियम के तहत शेयर की दर को 6.5 से घटाकर 4 फीसद करने का फैसला किया है।

इससे नियोक्ताओं का शेयर 4.75 से घटकर 3.25, जबकि कर्मचारियों का 1.75 से घटकर मात्र 0.75 फीसद रह जाएगा।

इससे 3.6 करोड़ कर्मचारियों तथा 12.85 लाख नियोक्ताओं को फायदा पहुंचेगा।

फैसले से कंपनियों को सालाना 5,000 करोड़ रुपए की राहत मिलेगी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •