Press "Enter" to skip to content

केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाओं में फिर से आयी तेजी

  • सोनोवाल, मोदी और सिंधिया को दिल्ली बुलावा

  • कोरोना की वजह से टल रहा था विस्तार

  • कई पद पहले से ही चल रहे हैं रिक्त

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार का काम नजदीक आ रहा है। आज प्रधानमंत्री मोदी

के निर्देश पर भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, मध्य

प्रदेश के ज्योतिरादित्य सिंधिया, बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को तुरंत दिल्ली

बुला लिया है। मोदी सरकार के केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार में और फेरबदल की अटकलों के

बीच असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात के

लिए दिल्ली पहुंचे। सोनोवाल को भी इस विस्तार और फेरबदल में जगह मिलने को लेकर

अटकलें हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक वह बीजेपी के शीर्ष नेताओं से मुलाकात

करेंगे।सोनोवाल वर्ष 2016 से लेकर पिछले महीने तक असम के मुख्यमंत्री रहे। हाल ही में

हुए विधानसभा चुनाव में बीजेपी को हालांकि जीत मिली थी लेकिन पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व

ने हिमंत बिस्व सरमा को मुख्यमंत्री बनाने का फैसला किया था। सोनोवाल गुरुवार को

असम के राज्यपाल जगदीश मुखी की ओर से गुवाहाटी स्थित राजभवन में आयोजित

रात्रि भोज में भी शामिल हुए थे, जहां उनकी मुलाकात रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से हुई थी।

असम के मुख्यमंत्री सरमा भी इस भोज में शामिल हुए थे। ऐसी अटकलें है कि मोदी

मंत्रिपरिषद में विस्तार से पहले चर्चा के लिए केंद्रीय नेतृत्व ने उन्हें दिल्ली बुलाया है।

सरमा ने हाल ही में कहा था कि उन्हें राज्य का मुख्यमंत्री बनाए जाने से पहले बीजेपी

अध्यक्ष जे पी नड्डा ने कहा था कि सोनोवाल को नई जिम्मेदारी दी जाएगी। हालांकि,

उन्होंने यह नहीं बताया था कि सोनोवाल को कौन सी जिम्मेदारी दी जाएगी। एक सूत्र ने

बताया कि सोनोवाल ने असम में सफलतापूर्व 5 साल सरकार चलाई और उसके बाद पार्टी

की सत्ता में वापसी में भी अहम भूमिका निभाई।

केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार के संभावित नाम चर्चाओं में हैं

इसलिए इस बात की बहुत संभावना है कि उन्हें केंद्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल किया जाए।

सोनोवाल के योगदान की तारीफ खुद प्रधानमंत्री मोदी ने भी कई मौकों पर की है। जिस

दिन सरमा ने असम के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी उस दिन मोदी ने ट्वीट किया

था, ‘मेरे अमूल्य सहयोगी सर्वानंद सोनोवाल जी ने पिछले पांच सालों में विकासपरक और

जनहित में शासन किया। असम की प्रगति और राज्य में पार्टी को मजबूत करने में उनकी

भूमिका अहम है। सोनोवाल के अलावा कांग्रेस से बीजेपी में आए और मध्य प्रदेश में

बीजेपी की सरकार बनाने में प्रमुख भूमिका निभाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया, बिहार के

पूर्व मुख्यमंत्री व राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी को संभावित मंत्रिपरिषद विस्तार

में जगह दिए जाने की संभावना है। इसमें सहयोगी जनता दल यूनाइटेड और अपना दल

(एस) के नेताओं को भी शामिल किया जा सकता है।यहां बता दें कि, कई राज्यों में

राजनीतिक उथल-पुथल मची हुई है। यूपी समेत कई राज्यों में नेतृत्व को लेकर बीजेपी

असमंजस की स्थिति में है। साथ ही अब इसका असर बिहार में भी देखने को मिल रहा है।

बिहार में भाजपा के साथ सरकार चला रही नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू ने भी केंद्र की

मोदी सरकार में सम्मानजनक हिस्सेदारी की मांग शुरू कर दी है। नीतीश कुमार की पार्टी

जेडीयू के 16 सांसद हैं और जेडीयू एनडीए के साथ-साथ केंद्र सरकार में भी शामिल है।

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

One Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
Exit mobile version