Press "Enter" to skip to content

असम के मुख्यमंत्री ने कहा अफस्पा पर पुनर्विचार करे केंद्र




6,000 करोड़ रुपये ब्रह्मपुत्र नदी के नीचे बनने वाली सुरंग परियोजना
चीन सीमा तक जल्द पहुंच सकेंगे भारतीय सैनिक
आतंकवादियों की मददगार है चीन और पाकिस्तान
कुछेक हिस्सों को छोड़कर शेष राज्य अब शांत है

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी: असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि असम में आतंकवाद का दौर अब खत्म हो गया है। लेकिन पाकिस्तान और चीन अब तक नॉर्थ ईस्ट में सक्रिय आतंकवादी की मदद कर रहे हैं , इसलिए भारत ने इसके लिए सभी समय में सतर्क रहना पड़ता है।




भारतीय सेना और सुरक्षा एजेंसियों ने पड़ोसी देश की सभी साजिश विफल करने के लिए हमेशा सतर्क रहता है । आज संवाददाताओं से बात करते हुए मुख्यमंत्री शर्मा ने कहा कि पूर्वोत्तर राज्य में अफस्पा के कार्यान्वयन पर पुनर्विचार करेगा केंद्र सरकार ।

अफस्पा कुछ महीनों में समाप्त होने के बाद, असम और पूर्वोत्तर राज्य प्रशासन राज्य के कुछ हिस्सों में विवादास्पद सशस्त्र बल विशेष शक्ति अधिनियम के कार्यान्वयन पर पुनर्विचार करेगा। राज्य के ‘अशांत क्षेत्र ‘ के बारे में मुख्यमंत्री हिमंता सरमा ने कहा कि “हम स्थिति के नवीनीकरण के समय इस पर फैसला लेंगे। कुछ जगहों को छोड़कर असम से सेना व्यावहारिक रूप से रवाना हो चुकी है।

नतीजतन, राज्य प्रशासन अगली बार इस पर फिर से विचार करेगा। दूसरी ओर असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि ब्रह्मपुत्र नदी के नीचे बनने वाली रेल-सड़क सुरंग परियोजना पर केंद्र सरकार गंभीरता से विचार कर रही है।




असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि मीशा (असम) भारतीय सेना के हथियार प्रमुख शिविर से प्रस्तावित सुरंग के जरिए भारतीय सेना के वाहन भारत-चीन सीमा की ओर आसानी से पहुंच सकेंगे। चीन के साथ जारी तनाव के बीच यह एक महत्वपूर्ण कदम होगा। रेल-सड़क सुरंग मीसा को तेजपुर से जोड़ेगी।इस प्रोजेक्ट पर गंभीरता से काम चल रहा है और जल्द ही केंद्र से इसकी मंजूरी मिल जाएगी। राज्य के वन विभाग ने काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में एलिवेटेड कॉरिडोर के निर्माण के लिए एनओसी दे दी है।

असम के मुख्यमंत्री ने विकास योजनाओं की जानकारी दी

इस परियोजना की लागत लगभग 6,000 करोड़ रुपये होगी। राज्य सरकार के अनुसार एलिवेटेड काजीरंगा कॉरिडोर 35 किलोमीटर लंबा होगा और इसे राष्ट्रीय राजमार्ग 37 पर बनाने का प्रस्ताव है जो काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान की दक्षिणी सीमा के समानांतर है।

हिमंत बिस्वा सरमा ने यह भी कहा कि राज्य में पूंजीगत परियोजनाओं पर निवेश बढ़ रहा है।सरमा ने कहा कि केंद्र ने हमें लक्ष्य दिया कि 31 मार्च तक राज्य में पूंजीगत परियोजनाओं पर निवेश 13,000 करोड़ रुपये होना चाहिए। लेकिन हमारा पूंजी निवेश अब लगभग 20,000 करोड़ रुपये हो गया है।



More from HomeMore posts in Home »
More from असमMore posts in असम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: