fbpx Press "Enter" to skip to content

केंद्र ने बंद का सख्ती से अनुपालन कराने को कहा

  • सभी राज्य की सरकार सीमाएं को सील करें

  • मरीजों की संख्या 426 तक पहुंची 8 की मौत

  • लॉकडाउन को हल्के में ले रहे हैं अनेक लोग

  • उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई

नयी दिल्ली: केंद्र ने बंद का आदेश देने के बाद राज्य सरकारों से कहा है कि वे कोरोना

के प्रसार को रोकने के लिये लॉकडाउन का सख्ती से पालन करें और इसका उल्लंघन

करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करें। एक आधिकारिक बयान में सोमवार को

यह जानकारी दी गई। केंद्र और राज्य सरकारों ने रविवार को देश भर के ऐसे 80 जिलों

को 31 मार्च तक पूर्ण बंद करने का फैसला किया था जहां कोरोना वायरस से संक्रमण के

मामले सामने आए हैं। खतरनाक कोविड-19 के प्रसार को रोकने के मद्देनजर यह

सहमति बनी थी कि गैर जरूरी यात्री परिवहन को तत्काल प्रतिबंधित करने की

आवश्यकता है। दिल्ली में 23 मार्च सुबह छह बजे से 31 मार्च की मध्यरात्रि तक बंदी

रहेगी। कुछ अन्य प्रदेशों ने भी बंद को लागू किया है। बंद के दौरान दिल्ली की सीमाएं

सील रहेंगी, हालांकि स्वास्थ्य, खाद्य सामग्री, पानी और बिजली आपूर्ति जैसी

आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। बंद के दौरान आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों की

आवाजाही सुनिश्चित करने के लिये डीटीसी की 25 प्रतिशत बसें भी सड़कों पर रहेंगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को इससे पहले राज्य सरकारों से अनुरोध किया कि वे

यह सुनिश्चित करें कि कोरोना वायरस के बंद से जुड़े नियम-कायदों का सख्ती से

पालन हो, क्योंकि उन्होंने यह नोट किया कि बहुत से लोग इन उपायों को गंभीरता से

नहीं ले रहे हैं। उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि लॉकडाउन को कई लोग अब भी गंभीरता

से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आप को बचायें, अपने परिवार को बचायें, निदेर्शों

का गंभीरता से पालन करें। राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वे नियम और कानूनों

का पालन करवाएं।

केंद्र ने बंद का निर्देश मौत का आंकड़े बढ़ने के बाद दिया

देश में कोरोना मरीजों की संख्या 426 तक पहुंची, अब तक 8 की मौत हो चुकी है। केंद्र

ने राज्य सरकारों को उन 75 जिलों को निर्देश जारी करने को कहा है जिनमें पॉजीटिव

केस आए हैं। यहां आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर सभी सेवाओं पर रोक लगा दी गई

है। लेकिन अभी भी लोग कोरोना के खतरे के प्रति बेपरवाह दिख रहे हैं। जिसके बाद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसे लोगों को कोरोना के खतरे के प्रति आगाह किया व साथ ही

राज्य की सरकारों से अनुरोध भी किया है। पीएम मोदी ने ट्वीट किया कि लॉकडाउन

को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आप को बचाएं,

अपने परिवार को बचाएं, निदेर्शों का गंभीरता से पालन करें। राज्य सरकारों से मेरा

अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं। बता दें कि 75 जिलों को

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए लॉकडाउन किया गया है। अब बेवजह यहां

वहां जाने की इजाजत नहीं रहेगी। वहीं आवश्यक सेवाओं व वस्तुओं पर यह आदेश

लागू नहीं होगा। खासकर फल, सब्जी, किराना, जनरल स्टोर, दूध, रसोईं गैस, पेट्रोल

पंप, मेडिकल स्टोर, कूरियर, ट्रांसपोर्ट, पैथालाजी लैब, निजी नर्सिंग होम, आदि पर यह

आदेश लागू नहीं होगा। लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं।

अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निदेर्शों का गंभीरता से पालन करें।

राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं।

देश में पहली बार दस दिनों के लिए रेल यात्रा बंद

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण और दहशत के बीच देश में पहली बार 10 दिनों के

लिए सभी यात्री ट्रेनें रद्द कर दी गईं। मुंबई लोकल समेत, लखनऊ, कोलकाता, दिल्ली व

नोएडा मेट्रो और सभी राज्यों में अंतरराज्यीय बस सेवा 31 मार्च तक नहीं चलेगी।

दिल्ली, बिहार, पंजाब, उत्तराखंड, आंध्र प्रदेश सहित 23 राज्यों को लॉकडाउन कर दिया

गया। यूपी सहित 17 राज्यों व पांच केंद्र शासित प्रदेशों के 82 जिलों को भी लॉकडाउन

किया गया है। पीएम नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव पीके मिश्र और कैबिनेट सचिव राजीव

गाबा की अध्यक्षता में रविवार को हुई उच्च स्तरीय बैठक में विभिन्न राज्यों के 82 ऐसे

जिलों को लॉकडाउन करने का फैसला हुआ, जिनमें संक्रमण के मरीज मिले हैं या मौत

हुई है। अधिकारियों ने कहा कि यह फैसला संक्रमण का प्रसार रोकने के लिए किया गया

है। शनिवार रात राजस्थान और मिजोरम में पूर्ण लॉकडाउन के बाद दिल्ली, बिहार,

पंजाब, तेलंगाना, उत्तराखंड, गोवा, आंध्र प्रदेश, नगालैंड, झारखंड, जम्मू-कश्मीर,

लद्दाख और चंडीगढ़ भी पूर्ण लॉकडाउन कर दिया गया। केंद्र ने बंद का जो आदेश जारी

किया है उसके तहत बाकी राज्यों में भी आंशिक बंदी की गई है।

इन राज्यों के ये जिले लॉकडाउन

आंध्र प्रदेश: प्रकासम, विजयवाड़ा, विशाखापत्तनम । चंडीगढ़। छत्तीसगढ़: रायपुर ।

दिल्ली: सेंट्रल दिल्ली, उत्तरी दिल्ली, उत्तर पश्चिमी दिल्ली, उत्तर पूर्वी दिल्ली, दक्षिण दिल्ली, पश्चिमी दिल्ली, पूर्वी दिल्ली ।

गुजरात: कच्छ, राजकोट, गांधीनगर, सूरत, वडोदरा, अहमदाबाद

हरियाणा: फरीदाबाद, सोनीपत, पंचकूला, पानीपत, गुरुग्राम ।

हिमाचल प्रदेश: कांगड़ा।

जम्मू-कश्मीर: श्रीनगर, जम्मू।

कर्नाटक: बंगलूरू, चिक्काबल्लापुरा, मैसूर, कोडागू, कलबुर्गी ।

केरल: अलापुझा, एनार्कुलम, इदुकी, कन्नूर, कासरगोड़, कोट्टायम, मल्लापुरम, पथनमथिट्टा, तिरुवनंतरपुरम, त्रिशूर।

लद्दाख: कारगिल, लेह ।

मध्य प्रदेश: जबलपुर।

महाराष्ट्र: अहमदनगर, औरंगाबाद, मुंबई, नागपुर, मुंबई उपनगर, पुणे, रत्नागिरी, रायगढ़, ठाणे, यवतमाल ।

राजस्थान: भीलवाड़ा, झुंझुनू, सीकर, जयपुर ।

तमिलनाडु: चेन्नई, ईरोड, कांचीपुरम ।

ओडिशा: खुर्दा।

पुडुचेरी: माहे।

पंजाब : होशियारपुर, साहिबजादा अजित सिंह नगर, शहीद भगत सिंह नगर ।

तेलंगाना: भद्राद्री, कोथागुडेम, हैदराबाद, मेडची, रांगा रेड्डी, सांगा रेड्डी ।

उत्तर प्रदेश: आगरा, गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, वाराणसी, लखीमपुर खीरी, लखनऊ समेत कुल 16 जिले

उत्तराखंड: देहरादून ।

पश्चिम बंगाल: कोलकाता, उत्तरी 24 परगना।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat