fbpx Press "Enter" to skip to content

सीसीएल का औघड़ बाबा दफ्तर में ही तंत्र मंत्र के रखते हैं साधन

बेरमो : सीसीएल के औधड़ बाबा की तस्वीर को देख आपको भी एक बार भ्रम हो गया होगा

कि यह कोई डिजिटल बाबा हैं, जो कम्प्यूटर के साथ साथ तंत्र मंत्र के लिए मसान घाट की

खोपड़िया व हड्डीया जमा कर रखा है। यह आपका सोचना गलत है क्योंकि यह कोई

तांत्रिक नही बल्कि सीसीएल कथारा मुख्य महाप्रबंधक कार्यालय में पदस्थापित मुख्य

सिविल अभियंता आर के प्रधान है जो अपने सरकारी दफ्तर को ही तंत्र मंत्र व साधना का

मंदिर बना रखा है। जबकि सीसीएल कथारा के एक श्रमिक संगठन के नेता बालिस्टर सिंह

ने सोशल मीडिया पर अपने लेख में भ्रष्टाचार के कई गंभीर आरोप लगाए हैं जैसे बिना

सिविल कार्य किए ही ठेकेदार से मिल कर बिल की राशि का निकासी कर लेना। सिविल के

कार्यो में रिश्वत के दम पर लाखो कमाना आदि। बताता चलूं कि जब इन्होंने पदभार ग्रहण

किया था तो लोगो को इनके चेम्बर मे जाने से पूर्व सौ बार सोचना पड़ता था।

 सीसीएल के लोग डर के  मारे इनके केबिन में जाने से घबराते थे

मगर कार्य की मजबूरी कहे या फिर धीरे धीरे डर का खत्म होना।  अब तो दिन भर इनके

चेम्बर के अंदर व बाहर ठेकेदारों का मजमा लगा रहता है। मगर शुरू से लेकर आज तक

इनके केबिन की स्थिति में कोई परिवर्तन नही हुआ है। आज भी इनके दफ्तर के टेबल पर

एक ट्रे में इंसान का कंकाल सलीके से सजा कर रखा गया है। पहले इनके केबिन के भीतर

की तस्वीर लेने की सख्त मनाही थी और ये अधिकारी अपने केबिन की चाभी अपने साथ

रखते थे। दफ्तर बंद होने के बाद चाभी लेकर घर चले जाते थे और फिर दफ्तर खुलने के

समय पर सफाई कर्मी को चाभी देकर खेलवाते थे। लोगो का कहना है कि ये अधिकारी तंत्र

मंत्र की सिद्धि किए हुए व्यक्ति है जिस कारण वे अपने साथ इस तरह के कंकाल रखते हैं।

खैर यह उनकी अपनी धार्मिक आस्था का विषय हो सकता है मगर उन्हे भी भ्रष्टाचार के

दिमक ने नही छोड़ा और उन पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लग गए। एक बात है कि इनके

आने से अब लोगो को हर दिन कंकालो के दर्शन हो जाते हैं नही तो पहले किसी मदाड़ी या

फिर ओघड़ बाबा के दर्शन के बाद ही देखने को मिलता था। बहरहाल इन पर लगे आरोप

कितना सही है या गलत यह तो जांच का विषय है मगर इनके दफ्तर की साज सज्जा की

चर्चा पुरे क्षेत्र में है। शायद ऐसा अनोखा अधिकारी का आगमन इससे पूर्व पहले कभी नहीं

हुआ था।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!