fbpx Press "Enter" to skip to content

सीबीआई ने अदालत में प्रस्तुत किये मेडिकल दाखिला घोटाले के सबूत

  • घूस की रकम का अलग अलग नाम

  • चाय वाले की सरकार का भी उल्लेख

  • पूरे देश में दाखिले की दलाली की चर्चा

  • टेलीफोन बम फूटा रिटायर्ड जजों के खिलाफ

विशेष प्रतिनिधि

नईदिल्लीः सीबीआई ने हाईकोर्ट के रिटायर्ड जजों की बात-चीत का वह टेलीफोन रिकार्ड

सुप्रीम कोर्ट में प्रस्तुत कर दिया है। इस रिकार्ड के बारे में काफी अरसे से यह दावा किया

जा रहा है कि लखनऊ के एक मेडिकल कॉलेज में दाखिले के लिए हो रही सौदेबाजी की

बात-चीत का रिकार्ड इसमें मौजूद है। जिस जज पर यह आरोप लगा था वह उड़ीसा हाई

कोर्ट में पदस्थ थे और अब रिटायर हो चुके हैं। बताया गया है कि इस टेलीफोन की बात-

चीत में वह दाखिले के लिए किसी दलाल से बातचीत कर रहे हैं और सुप्रीम कोर्ट से इस

मामले में किसी खास के पक्ष में फैसला दिलाने की बात कर रहे हैं।

बहुचर्चित मेडिकल कॉलेज दाखिला घोटाले की जांच प्रारंभ होते ही इस मुद्दे की चर्चा आम

हो गयी थी। लेकिन सीबीआई ने अब तक इस टेलीफोन पर हुई बात-चीत के रिकार्ड प्रस्तुत

किये हैं। इसमें किस दलाल के माध्यम से किसे और कहां पैसा दिया जाना है, इसकी

रिकार्डिंग होने का दावा किया गया है। मिली जानकारी के मुताबिक घूस की रकम को

प्रसाद, गमला, पेड़, आदमी और सामान के तौर पर उल्लेख किया गया है। इसमें पूरे देश

के मेडिकल कॉलेजों में इस किस्म के दाखिले की दलाली का दावा भी किया जा रहा है।

सीबीआई ने पहले ही जुटा लिये थे इसके सबूत

मजेदार बात यह है कि इस टेलीफोन की बात-चीत में यह बात भी रिकार्ड हुई है कि

चायवाले की सरकार हर तरफ नजर रखे हुए है, इसलिए सारा काम काफी सावधानी से

करना है।

उल्लेखनीय है कि इस मामले में अभियुक्त बनाये गये सभी लोगों के खिलाफ पहले ही

चार्जशीट दाखिल की जा चुकी है। पहली बार टेलीफोन पर हुई उस बात-चीत का रिकार्ड

अदालत को उपलब्ध कराया गया है। अब टेलीफोन पर हुई बात-चीत का यह रिकार्ड

अदालत में दाखिल होने के बाद इसमें क्या कुछ बातें दर्ज है, उस पर आगे कई अन्य

खुलासे भी हो सकते हैं। समझा जा रहा है कि सीबीआई ने भी मामले की जांच के दौरान

इससे जुड़े अन्य लोगों के रिकार्ड खंगाल लिये हैं। लेकिन अब तक अदालती प्रक्रिया की

वजह से इन सूचनाओं को सार्वजनिक नहीं किया है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply