Browsing Category

सम्पादकीय

सम्पादकीय

जदयू का लंबी राजनीतिक चाल

जदयू ने राजग फोल्ड में रहने की बात कहने के बाद भी एक दूर की राजनीतिक चाल चल दी है। घोषित तौर पर वह राजद के साथ जाने को तैयार नहीं हैं। दूसरी तरफ वह भाजपा के पाले में ही रहने की बात कह चुकी है। इन दोनों घोषणाओं के बीच असली बात उसका चार…

दिल्ली में प्रशासनिक अवरोध का नुकसान किसे

दिल्ली के संदर्भ में अब इस बात को नकारा नहीं जा सकता कि अलग किस्म की राजनीति करने में माहिर अरविंद केजरीवाल ने सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का राजनीतिक लाभ उठा लिया है। वह यह संदेश देने में कामयाब रहे हैं कि दरअसल दिल्ली की सारी परेशानी भाजपा…

देखा है पहली बार साजन की आंखों में प्यार

देखा है कभी सांप और नेवले की दोस्ती। लीजिए इंडियन पॉलिटिक्स में यह भी देख लीजिए। कहां सीधे तलवारें खीची हुई थी, अदालत का हथौड़ा टेबुल से टकराया तो प्यार होने लगा। एक बार में तो सारी शिकायतें दूर नहीं हो सकती फिर भी बैजल साहब और केजरीबाल आपस…

भारतीय रिजर्व बैंक की सिर्फ चेतावनी देने भर से जिम्मेदारी का अंत नहीं

भारतीय रिजर्व बैंक को बार बार यह चेतावनी देनी पड़ रही है कि फर्जी ईमेल के प्रति बैंकों के ग्राहक सतर्क रहें। हाल के दिनों में इस किस्म का फर्जीवाड़ा बहुत अधिक बढ़ गया है। इस फर्जीवाड़े के मूल में बैंकों की ठेका पद्धति है, साथ में मोबाइल कंपनी…