Browsing Category

संपादकीय

दोस्त, दोस्त ना रहा, प्यार प्यार ना रहा. ..

इस जमाने की फिल्म है और वह भी फिल्म के हीरो आमीर खान हैं। इस फिल्म में कॉलेज की पढ़ाई के अंतिम दिन फिल्म का यह गीत अपने डॉयलॉग के साथ ही काफी प्रसिद्ध हुआ। अब भी अनेक कॉलेजों में अंतिम दिन इसे इसी तरह दोहराया भी जाता है। अब उत्तर प्रदेश का…

जमीन लेने की सोच बदलनी ही होगी

मोमेंटम झारखंड में उत्पन्न ऊर्जा फिर से घटने लगी है। बहुचर्चित अडानी पावर प्लांट को लेकर गोड्डा की घटना इसका जीता जागता प्रमाण है। सरकार ने देश विदेश के उद्योगपतियों को इस बात के लिए आश्वस्त किया था कि जमीन की कोई समस्या झारखंड में नहीं…

दवा के कारोबार पर गिफ्ट पर रोक जरूरी

फिल्म अभिनेता आमीर खान के टीवी शो सत्यमेव जयते में भी चिकित्सीय जांच के बारे में खुलकर यह बात सामने आयी थी कि जांच प्रयोगशालाओं को भी अपना कारोबार चलाने के लिए डाक्टरों को कमिशन देना पड़ता है।

स्वास्थ्य क्षेत्र में झारखंड की बड़ी उपलब्धि

अब हम गर्व के साथ यह कह सकते हैं कि झारखंड के सभी प्रमंडलों में अब मेडिकल कॉलेज है। आज तीन मेडिकल कॉलेजों के शिलान्यास के बाद अब स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में झारखंड ने यह उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करने का गौरव प्राप्त किया है। ध्यान सिर्फ इस…

दवा उद्योग पर सरकारी नजरदारी अब समय की मांग

हाल के दिनों में जिस तरीके से चिकित्सा विज्ञान का बाजारीकरण हुआ है, उस हिसाब से अब इस बाजारिक प्रवृत्ति पर सरकारी अंकुश भी लगना ही चाहिए। केंद्र सरकार ने हाल ही में हृदय रोग में काम आने वाले स्टेंट की कीमतें निर्धारित कर दी तो अस्पतालों में…

राज्य में महिला स्वास्थ्य पर ध्यान देना अधिक जरूरी

हाल की एक रिपोर्ट के मुताबिक झारखंड में अनेक गर्भवती महिलाएं खून की कमी से पीड़ित हैं। यह रिपोर्ट राज्य को सतर्क करने वाली है क्योंकि गर्भवती महिलाएं का इस तरीके से एनिमिक होगा भावी शिशु के स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव डालने वाली होती है।…

चुनाव पर आधारित बजट से ग्रामीण विकास का ध्यान

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के बजट की आलोचना तो अब विरोधी भी सही तरीके से नहीं कर पा रहे हैं। वैसे इस पूरे घटनाक्रम में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की बात स्पष्ट हो रही है, जिसमें उन्होंने बजट को चुनाव के बाद पेश करने के…