fbpx Press "Enter" to skip to content

पीपीई किट पहन कोविद सेंटर में जा घुसे त्रिपुरा के भाजपा विधायक

  • मुख्यमंत्री बिप्लव देव ने खुद को किया आइसोलेट

  • विधायक के खिलाफ गुंडागर्दी का आरोप, मामला दर्ज

  • आदेश के पहले ही वीडियो वायरस पर नाराज सुदीप

  • सीएम के दो नजदीकी कोरोना पॉजिटिव पाये गये

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : पीपीई किट पहनकर जबरन कोविड केयर सेंटर में घुसने की वजह से त्रिपुरा में

भारतीय जनता पार्टी के विधायक और राज्य के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री सुदीप रॉय बर्मन के

खिलाफ गुंडागिरी करने का आरोप में मामला दर्ज किया गया है। त्रिपुरा आपदा प्रबंधन

प्राधिकरण ने कहा कि उस घटना के बाद राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम में पश्चिम

त्रिपुरा के जिला मजिस्ट्रेट (डीएम) ने विधायक के खिलाफ एक मामला दर्ज किया है।

त्रिपुरा आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने उस घटना के बारे में कहा है कि त्रिपुरा में भारतीय

जनता पार्टी के विधायक और राज्य के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री सुदीप रॉय बर्मन के खिलाफ

स्वत: संज्ञान लेते हुए एक केस दर्ज किया गया है। दरअसल, उनपर आरोप है कि रविवार

की शाम को वो कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन करते हुए अनाधिकृत तरीके से एक

कोविड केयर सेंटर में गए थे। इस दौरान उन्होंने पीपीई किट पहना हुआ था, लेकिन नियम

के अनुसार वो कोविड सेंटर में नहीं जा सकते थे।

दरअसल, सुदीप रॉय के विधानसभा क्षेत्र अगरतला के इस कोविड केयर सेंटर से एक

मरीज ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट किया था। जिसमें कहा गया था कि

फैसिलिटी में मरीजों के लिए उचित सुविधा का अभाव है। इसके बाद विधायक पीपीई सूट

पहनकर कोविड केयर सेंटर निरीक्षण के लिए चले गए, जिसके बाद उनपर यह एक्शन

लिया गया है।पश्चिमी त्रिपुरा के जिलाधिकारी ने उन्हे 14 दिनों के संस्थागत क्वारंटीन में

रहने को कहा है ताकि ‘उनकी और दूसरों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। हालांकि,

विधायक ने इसके पीछे दुर्भावना बताते हुए संस्थागत क्वारंटीन में जाने से इनकार कर

दिया है।

पीपीई किट पहन कर जाने की सूचना बाहर आने पर सवाल उठाया

उन्होंने पूछा है कि डीएम की ओर से जारी आदेश उनतक पहुंचने से पहले ही मीडिया और

सोशल मीडिया पर वायरल कैसे हो गया। दरअसल, इस कोविड सेंटर को लेकर पिछले

कुछ वक्त में कई मरीजों ने शिकायत दर्ज कराई थी। हाल ही में एक गर्भवती महिला ने

एक फेसबुक लाइव में इस सेंटर की हालत बताते हुए राज्य सरकार से मदद मांगी थी।

शिकायतें आने के बाद बर्मन ने पीपीई किट पहन कर इस सेंटर का दौरा करने का फैसला

किया। उन्होंने मरीज़ों की मौजूदगी में ही मीडिया से कहा, ‘सेंटर में मरीजों की रहने की

व्यवस्था देखकर मैं विचलित हूं। इसके लिए सख्त मॉनिटरिंग की जरूरत है। उन्होंने यहां

पर मरीजों के बीच फल भी बांटे।हालांकि, पश्चिमी त्रिपुरा के डीएम संदीप महात्मे एन ने

उन्हें गाइडलाइंस के उल्लंघन का जिम्मेदार माना है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के नियमों के अनुसार बस ‘अधिकृत और प्रशिक्षित लोगों को ही ऐसी

जगहों पर जाने और काम करने की अनुमति है’। दूसरी ओर, त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब

कुमार देब ने कोरोना वायरस की जांच कराई है और स्वयं को ऐहतियातन आइसोलेशन में

कर लिया है। देब की कोरोना जांच की हालांकि अभी रिपोर्ट नहीं आई है। मुख्यमंत्री ने

परिवार के दो सदस्यों के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद अपनी जांच कराई है और

रिपोर्ट नहीं आने के बावजूद ऐहतियात के तौर पर स्वयं को आइसोलेट किया है।देब ने खुद

ट्विटर पर यह जानकारी देते हुए कहा कि वह अपने घर में आइसोलेशन में हैं और कोरोना

से बचाव के सभी उपाय कर रहे हैं। उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों की तेजी से स्वस्थ

होने के लिए प्रार्थना भी की है।उल्लेखनीय है कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, मध्यप्रदेश के

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कनार्टक के मुख्यमंत्री समेत भाजपा के कई बड़े नेता

संक्रमण की चपेट में और अस्पताल में भर्ती हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अदालतMore posts in अदालत »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from त्रिपुराMore posts in त्रिपुरा »
More from नेताMore posts in नेता »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

Be First to Comment

Leave a Reply