Press "Enter" to skip to content

माओवादी साजिश विफल 20 किलो का कैन बम बेकार किया गया

बोकारो थर्मलः माओवादी साजिश को आज बोकारो पुलिस ने विफल कर दिया। बोकारो

थर्मल थाना क्षेत्र अंतर्गत बोकारो थर्मल-कुरपनिया मुख्य सड़क के एक नंबर पुलिया के

नीचे पुलिस ने 20 किलो का बारूदी सुरंग बरामद किया। बारूदी सुरंग बरामद होने की

सूचना मिलने पर मौके पर बेरमो एसडीपीओ सतीशचंद्र झा पहुंचे और सीआरपीएफ बम

निरोधक दस्ता की मदद से बारूदी सुरंग को डिफ्यूज कर दिया गया।

वीडियो में देखें कैसे बम को निष्क्रिय किया गया

बताया जा रहा है कि माओवादी साजिश के तहत पुलिस को नुकसान पहुंचाने के इरादे से

पुलिया के नीचे लैंडमाइंस लगाया गया था। जिस साजिश को पुलिस ने नाकाम कर दिया।

पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि पुलिया के नीचे बारूदी सुरंग लगा हुआ है। जिसके

बाद गांधीनगर थाना और सीआरपीएफ 26वीं बटालियन की जवान बोकारो थर्मल-

कुरपनिया मुख्य सड़क पर खोजी कुत्ता के साथ पहुंची और उनके साथ बोकारो से बम

निरोधक दस्ता भी मौके पर पहुंची। लगभग डेढ घंटे के खोजबीन के बाद सीआरपीएफ व

पुलिस ने बारूदी सुरंग को पुलिया से बरामद करने मे कामयाबी पाई। पुलिया से बारूदी

सुरंग को निकालने के बाद डिफ्यूज कर दिया गया। फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन

में जुटी हुई है। इस अभियान में बेरमो एसडीपीओ सतीशचंद्र झा, सीआरपीएफ के नारायण

बिलई, सर्किल इंस्पेक्टर गंजेद्र पांडेय, बोकारो थर्मल थाना प्रभारी रविंद्र कुमार सिंह सहित

सीआरपीएफ व पुलिस बल के जवान शामिल थे।

माओवादी साजिश के बारेमें एसपी चंदन झा ने जानकारी दी

एसपी चंदन कुमार झा ने कहा कि सुबह बारूदी सुरंग के बारें में सूचना मिली थी।

खासमहल परियोजना के पास बोकारो थर्मल जाने वाली मुख्य सड़क पर बनी पुलिया के

नीचे एक बारूदी सुरंग रखा हुआ है। यह जानकारी मिलने के बाद स्थानीय थाना और

सीआरपीएफ ने पहुंचकर जांच की और बारूदी सुरंग बरामद कर लिया। नक्सलियों ने

लगाया था या फिर किसी दूसरे ने लगाया था इसकी जांच की जा रही है। बताता चलू कि

खासमहल का पूरा इलाका घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्र से घिरा है। एक ओर सीसीएल

खासमहल कोनार परियोजना है तो दुसरी तरह नक्सलियों का गढ़ कहा जाने वाला इलाका

उपरघाट का जंगल युक्त इलाका पड़ता है जो नक्सलियों के लिए सबसे सुरक्षित ठिकाना

माना जाता है मगर पिछले लंबे समय से इस क्षेत्र में नक्सली गतिविधि नही के बराबर

कही जा सकती है और यह बारुदी सुरंग लगाने की घटना को नक्सलियों ने अंजाम दिया

तो निश्चित तौर पर नक्सलियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करने की कोशिश की है। ऐसे भी

इस इलाके में कई बार नक्सली हमले की घटनाएं हो चुकी हैं। कई जवानों की मौत भी हो

चुकी है और कई ट्रको को आग के हवाले करने की घटना को नक्सलियों ने अंजाम दे चुका

है। इस इलाके में गश्ती के दौरान पुलिस काफी सतर्कता बरतती है।

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from आतंकवादMore posts in आतंकवाद »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

One Comment

... ... ...
error: Content is protected !!