fbpx Press "Enter" to skip to content

ऊंट के दूध और यूरिन पर भी औषधिण गुणों की तलाश होगी

  • बीकानेर में है एशिया का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केंद्र
  • बदलते परिवेश में ऊंट की संख्या एवं उपयोगिता प्रभावित हुई है
  • देश में इसकी आबादी का 80 प्रतिशत अकेले राजस्थान में ही हैं

बीकानेर: ऊंट का पालन प्रोत्साहित करने की दिशा में अब उसके दूध के साथ साथ यूरिन

के औषधिय गुणों की भी जांच की जाएगी। राजस्थान के बीकानेर में एशिया के सबसे बड़े

राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केंद्र (एनआरसीसी) द्वारा उष्ट्र दूग्ध के साथ अब रक्त एवं यूरिन

की औषधीय उपयोगिता तलाशी जाएंगी। केन्द्र के निदेशक डॉ.आर्तबंधु साहू ने आज

बताया कि जाहिर तौर पर बदलते परिवेश में ऊंट की संख्या एवं उपयोगिता प्रभावित हुई है

लेकिन केंद्र ने मधुमेह, क्षय रोग, एलर्जी, आॅटिज्म आदि मानवीय रोगों में ऊंटनी के दूध

की लाभकारिता को सिद्ध किया है। डॉ. साहू ने कहा कि ऊंटपालकों की आय बढ़ाने की

दिशा में यह केंद्र निरंतर कार्य कर रहा है। ऊंट राजस्थान राज्य का राज्य पशु है, इसे एक

गाइड़ लाइन तय करते हुए विक्रय करने पर विचार किया जाना चाहिए। जिससे ऊंट

पालकों को लाभ मिलेगा एवं इस प्रजाति की संख्या में भी वृद्धि हो सकेगी।

ऊंट की कुल संख्या का अधिकांश राजस्थान में

उन्होंने बताया कि देश में ऊंटों की संख्या ढाई लाख के करीब है जिसमें से 80 प्रतिशत

अकेले राजस्थान में पाए जाते हैं, उसके बाद हरियाणा एवं गुजरात में ज्यादा ऊंट पाए

जाते हैं। उन्होंने कहा कि देश में मशीनीकरण, चारागाह की कमी, शिक्षा एवं

आधुनिकीकरण आदि कारणों से ऊंटों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है। ऊंटों की

संख्या में गिरावट के लिए विभिन्न बीमारियों से होने वाली मृत्यु दर भी एक कारण है। डॉ.

साहू ने यह भी कहा कि उष्ट्र प्रजाति की घटती संख्या के मद्देनजर इसकी उपयोगिता

बनाए रखने हेतू प्रजाति की औषधीय उपयोगिता पर यह केंद्र सतत् रुप से काम कर रहा

है। उन्होंने यह भी कहा कि एनआरसीसी द्वारा ऊंट प्रजाति को बचाने हेतू हरसंभव

अनंसधानिक दृष्टि से प्रयास किया जाएगा। साथ ही प्रत्येक पहलूओं से जुड़े शीघ्र एवं

बेहतर परिणाम हेतू समन्वयात्मक अनुसंधान को तरजीह दी जाएगी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राजस्थानMore posts in राजस्थान »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

One Comment

... ... ...
%d bloggers like this: