बेसिल-III मानकों को पूरा करने के लिए बैंकों को 65 बिलियन डॉलर की अतिरिक्त पूंजी की जरूरत

बेसिल III मानकों, मार्च 2019 को खत्म होने वाले वित्तीय वर्ष के दौरान पूरी तरह कार्यान्वित कर दिया जाएगा।

0 418
बेसिल-III मानकों को पूरा करने के लिए भारतीय बैंकों को 65 बिलियन अमेरिकी डॉलर की जरूरत होगी। ऐसा फिच का कहना है।

बेसिल-III के कैपिटल एडिक्वेसी नॉर्म को पूरा करने और ग्रोथ को बढ़ाने के लिए भारतीय बैंकों को अतिरिक्त पूंजी के रूप में 65 बिलियन अमरीकी डॉलर की आवश्यकता होगी, जो कि पहले लगाए गए अनुमान से कम है। यह बात फिच रेटिंग एजेंसी ने कही है।

एजेंसी ने आगे कहा कि पूंजी के लिहाज से कमजोर

स्थिति बैंकों की वियाबिलिटी रेटिंग पर प्रमुख रुप से

नकारात्मक असर डालती है। अगर समस्या का समाधान

नहीं किया गया तो यह और दबाव में आ जाएगी।

फिच ने कहा, “बेसिल III मानकों, जिसे मार्च 2019

को खत्म होने वाले वित्तीय वर्ष के दौरान पूरी तरह

कार्यान्वित कर दिया जाएगा, को पूरा करने के लिए

भारतीय बैंकों को करीब 65 बिलियन अमेरिकी डॉलर की जरूरत होगी।”

यह यूएस-आधारित क्रेडिट रेटिंग एजेंसी के 90

अरब अमेरिकी डॉलर के पिछले अनुमान से कम है।

सरकार के स्वामित्व वाले बैक जो अनुमानित कमी में

से 95 फीसद की हिस्सेदारी रखते हैं के पास आवश्यक

पूंजी जुटाने के लिए सीमित विकल्प हैं। फिच ने कहा,

“आंतरिक पूंजी उत्पादन की संभावना कमजोर है और

निवेशक का कम विश्वास इक्विटी पूंजी बाजार तक पहुंच में बाधा डालता है।”

You might also like More from author

Comments

Loading...