कंपनी एक्सेल ग्रीनटेक प्राइवेट लिमिटेड में भीषण आग, छह की मौत

सीएफएल और एलइडी बनाने का काम करती थी कंपनी

0 640

सेक्टर-11 स्थित सीएफएल और एलईडी लाइट बनाने वाली कंपनी में बुधवार दोपहर 12:45 बजे भीषण आग लग गई। इसमें छह लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में पांच पुरुष और एक युवती शामिल हैं। शव जल जाने के कारण उनकी पहचान संभव नहीं हो सकी है। डीएनए टेस्ट कराकर शवों की पहचान होगी। कंपनी में 50 लोग काम करते हैं। आग लगने के बाद से ही कंपनी के तीन मालिकों में से एक व एचआर मैनेजर (युवती) भी लापता है। पुलिस लापता लोगों की सूची तैयार कर रही है।

आग की चपेट में पड़ोस की भी एक कंपनी आ गई, जिसे खाली कराकर आग पर काबू पाया गया। आग बुझाने में दो हाइड्रोलिक प्लेटफार्म समेत दमकल की 50 गाड़ियां (फायर टेंडर) लगीं। कंपनी में सर्च अभियान जारी है। कुछ और शवों के बरामद होने की आशंका है। एफ-55 सेक्टर-11 की कंपनी एक्सेल ग्रीनटेक प्राइवेट लिमिटेड एलईडी और सीएफएल बल्ब का कारोबार करती है। पांच माह पहले ही काम शुरू हुआ था। यह कंपनी चीन से माल लाकर सेक्टर 11 में पैकिंग कर सप्लाई करती थी।

कंपनी में सेक्टर 120 के रहने वाले संजय दास, सेक्टर 100 के रहने वाले राजेश पाट्टी व रोहिणी दिल्ली के रहने वाले महबूब अख्तर मालिक हैं। भोजनावकाश के समय कंपनी के दूसरे तल पर आग लगते ही चंद मिनटों में ही फॉल्स सीलिंग द्वारा पूरे फ्लोर पर फैल गई। उस समय करीब 15 लोग लंच के लिए बाहर निकले हुए थे। कर्मचारियों के उतारने के लिए लगाई गई रस्सी को पकड़ने की बजाय युवक पवन ने छलांग लगा दी। इससे उसकी रीढ की हड्डी टूट गई है। छलांग लगाने से पांच अन्य भी घायल हो गए हैं। इनमें दो महिलाएं भी हैं। मौके पर नोएडा, गाजियाबाद, हापुड़ से 50 दमकल गाड़ियां पहुंचीं। शाम सात बजे आग पर काबू पाया गया। इसके बाद कंपनी की चौथी मंजिल से छह शव निकाले गए। इनमें पांच पुरुष और एक युवती शामिल है। कंपनी के एक मालिक संजय दास, एचआर मैनेजर जसमीत कौर समेत कुछ कर्मचारी अभी भी लापता हैं। एसएसपी धर्मेंद्र सिंह का कहना है कि डीएनए व अन्य माध्यम से शवों की पहचान की कोशिश होगी। जसमीत कौर मूलरूप से चंडीगढ़ की रहने वाली हैं। कंपनी के एक अन्य मालिक महबूब अख्तर का कहना है कि आग से करोड़ों के नुकसान की आशंका है।

You might also like More from author

Comments

Loading...