fbpx Press "Enter" to skip to content

ब्रिटेन ने चीनी राजदूत को तलब कर हांगकांग के मुद्दे पर जताया विरोध

लंदन : ब्रिटेन ने हांगकांग में लागू किए गए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के मुद्दे पर चीन के

राजदूत लियू शियाओ मिंग को तलब कर कड़ा विरोध जताया है। स्काई न्यूज ने बुधवार

को अपनी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी। रिपोर्ट के मुताबिक ब्रिटेन के विदेश मंत्रालय ने

लंदन में चीन के राजदूत को तलब किया। ब्रिटेन के उप विदेश मंत्री सिमोन मैक डोनाल्ड

ने चीनी राजदूत से मुलाकात कर हांगकांग में लागू किए गए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून पर

कड़ा विरोध जताया। इससे पहले ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि

हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर लागू किया गया कानून हांगकांग की स्वायत्तता

को लेकर ब्रिटेन और चीन के बीच हुए समझौते का उल्लंघन करता है। अमेरिका ने भी एक

दिन पहले हांगकांग में लागू किए गए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून का कड़ा विरोध करते हुए कहा

है कि वह चुपचाप नहीं बैठेगा और किसी भी परिस्थिति में चीन को हांगकांग पर मनमाना

कानून लागू कर उसकी स्वतंत्रता का हनन नहीं करने देगा। इससे पहले अमेरिका ने

हांगकांग को रक्षा उपकरणों तथा संवेदनशील प्रौद्योगिकी के निर्यात पर रोक लगाने की

घोषणा की है। गौरतलब है कि चीन ने हांगकांग में एक विवादास्पद राष्ट्रीय सुरक्षा कानून

लागू कर दिया है। दुनिया भर के विश्लेषकों का मानना है कि इस कानून से हांगकांग की

स्वायत्तता और नागरिक अधिकारों के लिए गंभीर खतरा पैदा होगा। हांगकांग के अलावा

अमेरिका और कई यूरोपीय देशों में इस कानून के खिलाफ लगातार प्रदर्शन हो रहे हैं।

ब्रिटेन ने साफ किया कि वह मूकदर्शक नहीं रहेगा

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन पहले ही यह स्पष्ट कर चुके हैं कि चीन के हाथ

हांगकांग को सौंपने में जो शर्ते थी, उसमें हांगकांग की स्वायत्तता कायम रखना था। अब

लगातार इस बात की शिकायत आ रही है कि चीन अपने तरीके से वहां की सांस्कृतिक

पहचान को ही नष्ट करने की साजिशें रच रहा है। वहां नये नये कानून भी सिर्फ स्थानीय

लोगों के दमन के लिए लागू किये जा रहे हैं। ऐसी स्थिति में ब्रिटेन किसी भी कीमत पर

मूकदर्शक नहीं बना रहेगा।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from ब्रिटेनMore posts in ब्रिटेन »
More from विवादMore posts in विवाद »

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!