fbpx Press "Enter" to skip to content

मिजोरम-असम सीमा पर फिर से तनाव एक की मौत

  • मिज़ोरम के रास्ते पर रुके हैं हजारों ट्रक

ब्यूरो प्रमुख

गुवाहाटी: मिजोरम-असम सीमा विवाद दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा है। केंद्र तक भी यह

मामला पहुंच गया है लेकिन सीमा विवाद का अभी तक कोई समाधान नहीं निकला है।

यह मामला तब उठा जब असम के एक सीमावर्ती गांव में 48 वर्षीय असम निवासी की

मौत हो गई । इस मामले को लेकर कई संगठनों की झड़प भी हो गई है। जिसे सीमा पर

नाकाबंदी लागू कर दी गई है। असम के कछार जिले के एक व्यक्ति की सोमवार को

मिजोरम में हिरासत में मौत हो गई। इससे पूर्वोत्तर के दोनों पड़ोसी राज्यों के बीच तनाव

बढ़ गया। असम के कछार जिला निवासी 45 वर्षीय इंताजुल लश्कर की मिजोरम में मौत

के बाद तनाव और ज्यादा भड़क गया। असम सरकार ने दावा किया कि इस व्यक्ति का

अपहरण किया गया था।

वहीं, मिजोरम के कोलासिब जिले के पुलिस अधीक्षक वनलालफाका रालते ने कहा कि

मादक पदार्थों के कुख्यात तस्कर इंताजुल लस्कर (45) को रविवार शाम को गिरफ्तार

किया गया जब वह अंतरराज्यीय सीमा को पार करके नशीले पदार्थ की तस्करी करने

आया था। भागने की कोशिश के दौरान वह घायल हो गया और बाद में उसकी अस्पताल में

मौत हो गई। हाउस के संपर्क अधिकारी सैजिकपुल्ली ने कहा कि स्थिति अभी तक शांत

है। हालांकि, कई मिजो नागरिक डर की वजह से असम छोड़कर मणिपुर के जिरिबाम चले

गए हैं।

मिजोरम-असम विवाद पर सोनोवाल ने अमित शाह को पत्र लिखा

असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने भी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को मिजोरम के

साथ तनाव के मुद्दे पर पत्र लिखा। आधिकारिक बयान में कहा गया कि सोनोवाल ने

इंताजुल लस्कर की मौत पर दुख व्यक्त किया है जिसका असम-मिजोरम सीमा पर

कछार जिले के लैलापुर सीमा चौकी क्षेत्र से ‘शरारती तत्वों ने अपहरण’ कर लिया था।

इसमें कहा गया कि मुख्यमंत्री ने मृतक के परिजनों को पांच लाख रुपये की आर्थिक

सहायता देने की भी घोषणा की है। इस बीच, असम, मिजोरम ने एक-दूसरे को दोषी

ठहराया है।

असम और मिजोरम के बीच सीमा पर जारी गतिरोध के बीच मंगलवार को असम से कोई

भी ट्रक मिजोरम में प्रवेश नहीं कर पाया, क्योंकि दोनों राज्यों को जोड़ने वाले राष्ट्रीय

राजमार्ग 306 पर मार्ग स्थानीय लोगों द्वारा अवरूद्ध कर दिया गया है।असम और

मिजोरम की सीमा पर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 306 पर जारी नाकेबंदी को तकरीबन एक

हफ्ते हो गए हैं। असम के सीमावर्ती इलाके के लोग आवश्यक वस्तुओं को ले जा रहे ट्रकों

को मिजोरम में प्रवेश करने नहीं दे रहे हैं। वे चाहते हैं कि मिजोरम सीमा पर तैनात सुरक्षा

बलों को हटा ले. हालांकि मिजोरम ने इस बात से इनकार कर दिया है और असम सरकार

पर लोगों को भड़काने का आरोप लगाया है।

केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला ने दोनों मुख्य सचिवों से आग्रह किया था कि वे

अपने-अपने सीमावर्ती क्षेत्रों से सुरक्षा बल हटा लें ताकि आसपास के इलाके में शांति बहाल

हो सके। इस बीच मिजोरम के गृहमंत्री लालचामलियाना ने कहा था कि उनकी सरकार

हालात सामान्य होने तक असम से लगी सीमा से अपने सुरक्षा बलों को नहीं हटाएगी। इस

घटना के बाद असम, मिजोरम और केंद्र सरकार के अधिकारियों के बीच कई दौर की वार्ता

हो चुकी है। हालांकि दोनों राज्यों के बीच गतिरोध बरकरार है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from उत्तर पूर्वMore posts in उत्तर पूर्व »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »

2 Comments

... ... ...
%d bloggers like this: