Press "Enter" to skip to content

नेपाल से सटे बिहार के सीमा इलाकों में सड़कों की दशा सुधारना जरूरी

  • ग्रामीणों ने आवेदन देकर पुल बनवाने की मांग की है

  • पथ में बड़े पुल बने,अन्यथा आंदोलन करने पर बाध्य होंगे

  • बाढ़ग्रस्त इलाको में पुल-पुलिया के बिना होगा भारी नुकसान

सीतामढ़ी : नेपाल से सटे बिहार के सीमाई इलाके में भारत नेपाल सड़क परियोजना के

तहत बन रहे ऊंची सड़क जहां एक दूसरे इलाके की दूरियों को नजदीक कर पाने में सक्षम

होगी वही इन सड़कों को बनाने में बाढ़ग्रस्त इलाको की अनदेखी कर बड़े पुल पुलिया नही

देने से हजारो लोगो की जिंदगी दांव पर लग सकती है वही कई गांव पानी में डूब सकता है।

और यही चिंता लोगो को सता रही है।

इन इलाकों पर मंडरा सकता है डूबने का खतरा

भाड़सर, कन्हौली,ओरलहिया,खाप,खोपराहा,परसाखुर्द का इलाका बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र है,इन

इलाकों में बाढ़ के समय मे पांच फीट पानी का बहाव होता है,हजारो लोगो के घरों में

लखनदेई नदी का पानी प्रवेश कर जाता है,वही कई सड़के क्षतिग्रस्त हो जाती है। चारो

तरफ से सम्पर्क भंग हो जाता है। सैकड़ो परिवार विस्थापित होते हैं। अतः यह के लोगो ने

अधिकारियों को आवेदन भेज कर इंडो नेपाल की बन रही सड़क में इन इलाकों में बड़े बड़े

पुल देने की मांग की है। पूर्व पंसस विजय मण्डल,भाजपा नेता उमेश प्रसाद गुप्ता,युवा

समाजसेवी मनोज कुमार,एचएम राम नरेश प्रसाद,किसान मनोज प्रसाद,शिव कुमार ने

कहा–आधा दर्जन गांवों के लोगो के दर्द को स्थानीय प्रखंड के अधिकारी,थानां के

अधिकारी व एसएसबी के अधिकारी जानते हैं,और इन इलाकों की भयावहता से वे

अधिकारी भी प्रभावित होते है,एसएसबी के जवानों को सीमा पर जाना सम्भव नही हो

पाता है,और ऐसे में काफी ऊंचे सड़क निर्माण के कारण लखनदेई नदी की पानी मे आधा

दर्जन गांव डूब सकता है,और लोगो की जान जा सकती है,हर वर्ष बाढ़ में इन इलाकों में

मौत होती है और शव को बहते देखा जा सकता है।

नेपाल से सटे इन इलाकों में हर साल बाढ़ आती है

ऐसे में निर्माणाधीन पथ में सिर्फ लखनदेई नदी पर पुल देने और पानी के बहाव वाले

इलाकों में पुल नही देने से पानी का जमाव होगा और इसमे कई गांव डूब सकता है। कहा

कि यदि सड़क में जलमग्न व बहाव वाले इलाकों में पुल नही दिया गया तो सड़क निर्माण

को ग्रामीण रोक देंगे,वही आंदोलन पर बाध्य होंगे। कन्हौली एसएसबी कैम्प इंचार्ज

विशनदास ने कहा कि इन सड़क में पुल जरूरी है जिससे पानी की निकासी हो सके,बाढ़ की

भयावहता से सभी प्रभावित होते हैं,इस सम्बंध में उनके तरफ से भी वरीय अधिकारी को

लिखा गया है।

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from नेपालMore posts in नेपाल »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from राज काजMore posts in राज काज »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
Exit mobile version