Press "Enter" to skip to content

जमुई में कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज लगाने की हुई शुरूआत







  • डीएम ने बूस्टर डोज लेकर किया कोरोना पर वार
  • तीसरी डोज के लिए किसी तरह के रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं।
  • पुराने रजिस्ट्रेशन के आधार पर ही दी जाएगी तीसरी डोज।
  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया स्पष्ट निर्देश।

जमुई। जमुई में कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज लगाने की हुई शुरूआत जिलाधिकारी अवनीश कुमार सिंह ने सोमवार को कोरोना से सम्बंधित टीका की तीसरी डोज लेकर महामारी पर वार किया है। उन्होंने सुयोग्य जनों को बूस्टर डोज दिए जाने की जानकारी देते हुए कहा कि नामित स्थानों पर जाकर पुराने रजिस्ट्रेशन के आधार पर कोरोना की टीका लें और जिला के साथ राज्य और देश को महामारी से मुक्त करने में सहयोग दें। उन्होंने आगे कहा कि जमुई समेत देश भर में सोमवार से कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज लगाने की शुरूआत हो गई है।

सरकार ने हेल्थ केयर वर्कर , फ्रंटलाइन वर्कर्स समेत 60 साल से अधिक उम्र वाले सभी जनों को बूस्टर डोज देने का ऐलान किया है। कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए हेल्थ केयर वर्कर को प्राथमिकता के साथ बूस्टर डोज लगाई जा रही है , क्योंकि संक्रमण का सबसे अधिक खतरा उन पर ही है।

वहीं साठ साल के ऊपर के लोग जिन्हें कोई गंभीर बीमारी है , उन्हें भी डॉक्टर के परामर्श पर तीसरी डोज दी जा रही है। उल्लेखनीय है कि बिहार में पत्रकारों को भी फ्रंटलाइन वर्कर्स माना गया है। इस स्थिति में वे भी बूस्टर डोज लेने के लिए योग्य हैं। गौरतलब है कि तीसरी डोज के लिए किसी तरह के रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं है।

जमुई में स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया स्पष्ट निर्देश

जमुई में स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस संबंध में स्पष्ट निर्देश जारी कर दिया है। पुराने रजिस्ट्रेशन के आधार पर ही कोरोना वैक्सीन की तीसरी डोज दी जाएगी। हालांकि इस बाबत कोविन एप पर बदलाव किए गए हैं। तीसरे डोज को लेकर एप पर फीचर जोड़ दिया गया है। इस स्थिति में ऐप के माध्यम से स्वयं के समय का निर्धारण किया जा सकता है। इसके अलावे तीसरी डोज के लिए आॅन स्पॉट बुकिंग की भी सुविधा उपलब्ध है।

ज्ञात हो कि बीते दिनों बिहार के स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा था कि 10 जनवरी 2022 से वैसे स्वास्थ्यकर्मी और फ्रंटलाइन वर्कर्स जिन्होंने नौ महीने पहले कोरोना वैक्सीन की सेकेंड डोज ले ली होगी , उन्हें बूस्टर डोज दिया जाएगा। इसके साथ ही 60 साल से अधिक उम्र वाले लोगों को भी बूस्टर डोज मिलेगा , लेकिन उन्हें डॉक्टर की सलाह लेनी पड़ेगी।

हालांकि इसके लिए उन्हें किसी प्रकार के कागज या सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं होगी। आराम से वैक्सीन मिलेगी , जांच जैसा कुछ नहीं होगा।” प्रधान सचिव श्री अमृत ने आगे कहा था कि चूंकि हमने मीडियाकर्मियों को भी फ्रंटलाइन वर्कर्स माना है , इसलिए उन्हें भी बूस्टर डोज मिलेगा। उन्होंने बताया कि तीसरी डोज लेने वालों में 60 और 60 से अधिक उम्र वाले 18.92 लाख लोग , 05.24 लाख हेल्थ केयर वर्कर और 05.06 लाख फ्रंटलाइन वर्कर्स शामिल हैं।



Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: