fbpx Press "Enter" to skip to content

भाजपा का नया संकट जांच एजेंसियों की वजह से बढ़ा

  • चुनाव से पहले ही कई नेताओं के खिलाफ फैसला
  • इसी माह तीसरे सप्ताह आ सकता है फैसला
  • संसद की कार्रवाई में भी दर्ज है इसकी सूचना
  • दूसरे ठिकानों की तलाश में जुटे हैं ऐसे नेता
संवाददाता

रांचीः भाजपा का नया संकट उसके अपने नेता ही बन चुके हैं। इनमें से कई

लोग इस बार के विधानसभा चुनाव में टिकट की उम्मीद में ही भाजपा में

शामिल हुए हैं। दिल्ली के सरकारी सूत्रों ने साफ साफ संकेत दिया है कि इसी

महीने के तीसरे सप्ताह तक अदालत का फैसला भी आ सकता है। यदि वाकई

ऐसी स्थिति बनती है तो निश्चित तौर पर यह चुनाव में भाजपा के लिए बड़ी

परेशानी का कारण बनेगी। ऐसे नेताओं को आगे बढ़कर पार्टी में शामिल

कराने में जिनलोगों की प्रमुख भूमिका रही है, वे भी इसकी वजह से संकट में

पड़ने जा रहे हैं।

हाल के दिनों में भाजपा में शामिल होने वाले अनेक नेताओं में कई पूर्व और

वर्तमान विधायक और प्रमुख नेता हैं। इनमें से कई लोगों के खिलाफ पहले से

ही सीबीआई और इडी की जांच चल रही है। दिल्ली में हो रही सरकारी

गतिविधियों के मुताबिक इनमें से कई लोगों के खिलाफ सरकारी एजेंसियों ने

पर्याप्त साक्ष्य जुटाये हैं। एक नेता के खिलाफ भारतीय संसद में भी इस बारे

में प्रतिकूल कार्रवाई की रिपोर्ट दर्ज है। जानकार मानते हैं कि जांच की प्रक्रिया

पूरी होने के बाद अब ऐसे मामले सुनवाई के दौर में हैं। इनका भी लगभग

समापन हो चुका है। इस वजह से इसी महीने के बीस तारीख से फैसला आने

के बाद भाजपा के लिए ऐसे लोगों को शामिल करने का फैसला राजनीतिक

विरोधियों को हमले का नया हथियार प्रदान करेगा।

दूसरी तरफ अंदरखाने से यह सूचना भी आ रही है कि ऐसे जो नेता भाजपा में

शामिल हुए हैं, वे भी टिकट नहीं मिलने के विकल्पों की तलाश में जुटे हुए हैं।

इससे साफ है कि अगर अंतिम समय में पार्टी ऐसे नेताओं को टिकट देने से

परहेज करती है तो वे दूसरे दलों अथवा निर्दलीय भी चुनाव मैदान में उतरेंगे।

भाजपा का नया संकट घटेगा नहीं बढ़ेगा

लेकिन भाजपा की परेशानियां इससे कम नहीं होने जा रही है। थोक भाव में

पार्टी में शामिल होने वाले नेताओं में से टिकट बांटने के बाद जब लोगों के

भागने का क्रम प्रारंभ होगा, तो उसकी जिम्मेदारी किसकी होगी, इस पर

भी भाजपा प्रदेश मुख्यालय में चुपके चुपके चर्चा का दौर प्रारंभ हो चुका है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat