Press "Enter" to skip to content

लाठी चार्ज के विरोध में भाजपा कार्यकर्ताओं ने काला बिल्ला लगाया




रांचीः लाठी चार्ज के विरोध में भाजपा कार्यकर्ताओं ने हरमू चौक पर अपने कार्यकर्ताओं और




समर्थकों को काला बिल्ला लगाकर कल की घटना पर विरोध दर्ज कराया। भारतीय जनता

पार्टी प्रदेश द्वारा गत आठ सितंबर 2021 को झारखंड विधानसभा घेराव के कार्यक्रम के

दौरान पुलिस के लाठी चार्ज से सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ता घायल हुए थे। इस पुलिसिया दमन के

खिलाफ प्रदेश भाजपा नेतृत्व के निर्देश पर आज विरोध प्रदर्शन किया गया। प्रदेश भाजपा

नेतृत्व ने निहत्थे कार्यकर्ताओं पर हेमंत सरकार के इस पुलिसिया दमन के खिलाफ विरोध

प्रदर्शन करने का निर्देश जारी किया था। इसके तहत प्रदेश कार्यसमिति सदस्य प्रेम वर्मा और

मुकेश मुक्ता के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने हरमू के किशोरगंज चौक पर पार्टी

कार्यकर्ताओं और समर्थकों को काला बिल्ला लगाकर विरोध दर्ज कराया। इस दौरान वहां

पुलिस की इस कार्रवाई के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी हुई। इस कार्यक्रम में मुख्य रुप से

नीरज प्रजापति (सदस्य, प्रदेश कार्यसमिति, ओबीसी मोर्चा), उमेश रंजन साहू, सुरेश साहू, रवि

प्रकाश, पप्पू वर्मा, प्रिंस कुमार, अजीत शर्मा, गौरव राजगढ़िया, सत्यम सिंह, उमेश साहू आदि




कार्यकर्ता मौजूद थे। इस दौरान वहां से गुजरने वाले अन्य सामान्य लोगों ने भी इस कार्यक्रम

में भाग लेकर खुद से काला बिल्ला लगाकर इस विरोध को अपना समर्थन दिया और राज्य

सरकार द्वारा नमाज के लिए विशेष व्यवस्था किये जाने के इस फैसले को गलत बताया।

लाठी चार्ज की वजह से जिंदा हो गयी भारतीय जनता पार्टी

झारखंड भारतीय जनता पार्टी द्वारा कल विधानसभा में नमाज के लिए अलग से कक्ष

आवंटित किये जाने के विरोध में जो आंदोलन किया गया था, उसका लाभ भी पार्टी को मिलता

दिख रहा है। कल के जुलूस प्रदर्शन के दौरान जाम से प्रभावित होने के बाद भी भीड़ में शामिल

अनेक लोग इस फैसले को नाहक और राजनीतिक तौर पर किसी खास वर्ग की चापलूसी के

तौर पर आंक रहे थे। इस पर प्रतिक्रिया देने वालों का तर्क था कि इसके माध्यम से हेमंत

सोरेन की सरकार जानबूझकर हिंदुओं के धैर्य की परीक्षा ले रही है। आज भी जब काला बिल्ला

लगाने का कार्यक्रम चल रहा था तो वहां से गुजरने वाले अनेक लोगों ने इसका चलते चलते ही

समर्थन किया। इनमें से कुछ लोग खुद ही चलकर आंदोलनस्थल तक आये और काला बिल्ला

लगाकर उस मांग का नैतिक समर्थन करते हुए आगे बढ़ गये।



More from रांचीMore posts in रांची »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: