fbpx Press "Enter" to skip to content

भाजपा के प्रदेश महामंत्री ने कहा ऐसा अपमान तो मुगलों और अंग्रेजों ने नहीं किया

  • छठ के महत्व को कमतर कर आंक रहे हैं

  • सुप्रियो भट्टाचार्य के बयान की जोरदार आलोचना

  • ऐसे लोगों को तो छठ का महत्व ही नहीं मालूम है

  • सरकार भाजपा पर और मुकदमा दर्ज करे परवाह नहीं

राष्ट्रीय खबर

रांचीः भाजपा के प्रदेश महामंत्री आदित्य साहू ने कहा कि झामुमो सनातन परंपरा,धर्म

कर्म से कुछ भी लेना देना नही है।सत्ता लोलुपता चाटुकारिता एवम तुष्टिकरण में ये सब

कुछ भूल गए है। उन्होंने कहा कि ये लोग सत्ता के मद में बौराये हुए है। माँ दुर्गा का भक्त

कहलाने वाले सुप्रियो भट्टाचार्य ने कल छठ व्रत करने वाले मां-बहनों का जितना अपमान

किया उतना शायद मुगलो एवं अंग्रेजो ने भी नही किया था। उन्होंने कहा कि आश्चर्य इस

बात कि है कि कुल्ला ,मुँह धोने और नहाने भी सीख दे रहे है। इनको पता होना चाहिए कि

छठ व्रत एक तपस्या है और इनके परिवार के लोग कभी छठ नही किये है। यह लोग सिर्फ

दूर से छठ को देखते है। श्री साहू ने कहा कि इन्हें पता होना चाहिए कि जो छठ व्रती

माताए-बहने होती है उनका खरना प्रसाद जूठा खाने के लिए लोग कतार लगाए रहते है

,यह परंपरा है।व्रतियों का गिला कपड़ा से लोग अपने मुंह और माथा पोछकर आशीर्वाद

लेते है। ये सूर्य भगवान की पूजा की जाती है।जिस प्रकार से इन्होंने छठ महापर्व का

अपमान किया है राज्य की जनता कभी माफ नही करेगी। जगरनाथ मंदिर पूरी ,उड़ीसा में

जो प्रसाद का जूठा गिरता है उसे सूखा कर महाप्रसाद बनाकर वितरण किया जाता है।

हिन्दू धर्म के पूजा-पाठ को भी ये जाति में बांट रहे है। भाजपा के प्रदेश महामंत्री श्री साहू ने

कहा कि सबसे पहले इनके ऊपर जाति विद्वेष फैलाने का केस दर्ज होना चाहिए। इन्होंने

पर्व त्योहार में भी जाति विद्वेष फैलाया है। श्री साहू ने कहा कि चूंकि ये भ्रष्टाचार घाट के

पानी पीने वाले लोग है तो छठ घाट की महिमा कहाँ से समझ पाएंगे। इनको बतलाना

चाहिए कि कलकत्ता के घाट में कौन कौन डुबकी लगाकर पानी पिये है।

भाजपा के प्रदेश महामंत्री ने कई और आरोप भी जड़ दिये

डायरी में कौन कौन घाट का उल्लेख है। एनआईए जांच में स्टेन स्वामी के घाट का कौन

कौन पानी पिए है। दुमका उपचुनाव के विजय जुलूस में अचार संहिता रहते हुये रायफल

घाट का स्वाद कैसा है। जनाजे की भीड़ घाट कैसा है। रिसालदार बाबा के चादर घाट का

पानी कैसा है। सैकड़ो लोगो के ट्रांसफर पोस्टिंग उद्योग घाट का पानी कैसा है। 1200

माताए-बहनों के साथ जो विभत्स व्यहार किया गया है उसपर क्या कहना है। बढ़ते

अपराध एवं उग्रवाद के घाट का पानी का स्वाद कैसा है। कोयला,बालू एवं पत्थर तस्करी के

घाट का पानी कैसा है। श्री साहू ने कहा प्रदेश अध्यक्ष सांसद दीपक प्रकाश आदरणीय

बाबूलाल मरांडी ,श्री सीपी सिंह सहित भाजपा नेताओं पर टिप्पणी झामुमो की छोटी

मानसिकता का परिचायक है। उन्होंने कहा कि झामुमो नेता सामान्य राजनीतिक मर्यादा

और संस्कार भी भूल चुके है।कहा कि श्री भट्टाचार्य पहले उतनी ऊंचाई प्राप्त कर लें फिर

टिप्पणी करें तो ठीक रहेगा। बाबूलाल मरांडी, सीपी सिंह जैसे नेताओं को जनता का

आशीर्वाद प्राप्त है। श्री साहू ने कहा कि सिर्फ भाजपा नेताओं पर केस दर्ज की बात करके

झामुमो ने बता दिया कि तुगलकी फरमान को भाजपा ने ही वापस करवाया है।झामुमो

कांग्रेस का पत्र केवल दिखावा था। भाजपा के नेता कार्यकर्ता सभी घाटों पर रहेंगे,सरकार

केस दर्ज कराने की तैयारी रखे।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धर्मMore posts in धर्म »
More from बयानMore posts in बयान »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: