fbpx Press "Enter" to skip to content

मोदी के खिलाफ नाराजगी तो भाजपा विधायक पर हमला

  • मोदी की यात्रा के दौरान काला झंडा दिखायेंगे

  • छात्र संघ के एलान से भाजपा संगठन भी सहमा

  • सीएए के खिलाफ जनता की नाराजगी सामने आयी

  • लाखों लोगों ने असम में सड़कों पर आकर किया प्रदर्शन

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी: मोदी के खिलाफ नाराजगी का यह तेवर पहले से नहीं समझा जा सका था।

लाखों लोग इसके तहत सड़कों पर उतरे तो दूसरी तरफ भाजपा विधायकों की इससे

फजीहत हो गयी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 22 फरवरी को असम दौरे के दौरान धेमाजी

जिले के जोनाइ असम विधानसभा क्षेत्र के लोगों ने नागरिकता संशोधन अधिनियम

सीएए के विरोध में प्रधानमंत्री की यात्रा पर अपना गुस्सा जाहिर किया और आज भाजपा

विधायक भुवन पेगू पर हमला किया है। बता दें कि 22 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

असम के धेमाजी चिलपाथर और जोनाइ असम विधानसभा क्षेत्र में एक बड़ी जनसभा को

संबोधित करेंगे। इससे पहले धेमाजी जिले के लोगों ने नागरिकता संशोधन कानून का

विरोध किया और प्रधानमंत्री मोदी के असम दौरे को विफल करने की कोशिश की।

स्थानीय लोगों ने बातचीत में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल मिशाकी तेलगनी क्षेत्र

की 1200 बीघा जमीन उद्योग बनाने वाली कंपनी को देंगे और जगह-जगह बनने वाले

उद्योग का शिलान्यास करेंगे। खबर मिलने के बाद लोग नाराज हो गए और भाजपा

कार्यालय सहित प्रधानमंत्री के पोस्टर तोड़ दिए और मोदी के खिलाफ अपनी नाराजगी का

इजहार किया। जनता का कहना है कि व्यक्तिगत प्रतिष्ठान इस जमीन को कभी नहीं

देगा। इसके अलावा जनता ने विधानसभा के स्थानीय विधायक भुवन पेगू पर हमला

करना शुरू कर दिया। भाजपा जोनाइ विधायक पेगू लोगों को शांत करने के लिए इस जगह

का दौरा करते हैं, लेकिन जनता उनके साथ गंभीर दुर्व्यवहार कर रही है और प्रदर्शनकारी

भाजपा विधायक को खदेड़ देते हैं ।

मोदी के खिलाफ नाराजगी में खदेड़े गये भाजपा विधायक

लाखों लोगों ने ऐतिहासिक बोगीबील पुल के ऊपर राष्ट्रीय राजमार्ग को अवरुद्ध रखा ।

इसके बाद असम पुलिस और भारतीय सेना ने लोगों को खदेड़ने की कोशिश की लेकिन

लोगों ने पुलिस और सुरक्षाबलों पर पत्थर मार कर हमला कर दिया। दूसरी ओर, ऑल

असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) पीएम नरेंद्र मोदी की धेमाजी यात्रा के दौरान सभी जिला

मुख्यालयों में काले झंडे के साथ प्रदर्शन करने जा रही है ।

प्रधानमंत्री मोदी 22 को धेमाजी आ रहे हैं

असम समझौते के खंड छठी को लागू करने, मेगा बांधों से उत्पन्न समस्याओं के समाधान

और बाढ़ और कटाव को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की उनकी मांगों के समर्थन में

विरोध प्रदर्शन की योजना बनाई गई है । ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन ने सीएए का

विरोध जारी रखा है और असम के युवा कल मोदी को काले झंडे दिखाएंगे। आसू के अध्यक्ष

दीपांगको कुमार नाथ और महासचिव संकोर ज्योति बरूआ ने मीडिया को जारी बयान में

कहा कि प्रधानमंत्री को यह बताना चाहिए कि 22 फरवरी को उनकी धेमाजी यात्रा में असम

समझौते के खंड छह को कब लागू किया जाएगा । राज्य के अपने दो हालिया दौरों के

दौरान उन्होंने समझौते के खंड छह पर उच्चस्तरीय समिति की रिपोर्ट पर कभी कोई शब्द

नहीं बोला । उन्होंने आगे कहा कि संवैधानिक सुरक्षा असम के स्वदेशी लोगों का अधिकार

है । प्रधानमंत्री को निचले सुबानसिरी पनबिजली परियोजना को रोकने की घोषणा तब

तक करनी चाहिए जब तक कि डाउनस्ट्रीम असम में लोगों के जानमाल की रक्षा नहीं हो

जाती । बयान में कहा गया, हम प्रधानमंत्री को अपनी जवाबदेही दिखाने की हिम्मत करते

हैं क्योंकि उन्होंने पत्र में पनबिजली परियोजना पर विशेषज्ञों के सुझावों को मानने का

वादा किया था और कहा, प्रधानमंत्री को राज्य में कटाव और बाढ़ से लड़ने के लिए तत्काल

धन जारी करना सुनिश्चित करना चाहिए ।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from असमMore posts in असम »
More from चुनावMore posts in चुनाव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: