fbpx Press "Enter" to skip to content

प्रियंका ने कहा भाजपा नेतृत्व में आलोचना सुनने की शक्ति नहीं




रायबरेली:  प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व में अपनी आलोचना सुनने की शक्ति नहीं।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने अमेठी दौरे के दूसरे दिन बुधवार को यहां सलोन में

आयोजित बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधाते हुए कहा कि

कोई उनकी आलोचना कर दे तो उनमें सुनने की शक्ति नहीं है। यह कोई राजनीति नहीं होती ।

नेता को जनता की भावनाओं का आदर करना चाहिए।

अगर जनता आपको सबक सिखा कर चली भी जाए उसके बावजूद भी अगली बार हमें देखना होगा कि आप ख़ुश हो।

ये होती हैं राजनीतिक नैतिकता की शक्ति। आप ने ऐसे नेता देखें हैं जो आपका आदर करते हैं।

वो जानते हैं यहां आकर मंच पर खड़े होकर भाषण दे रहे हैं तो आपकी बदौलत दे रहे हैं।

उन्होंने आगे कहा कि हमारा तो अपना पुराना सिस्टम है, पिता जी (राजीव गांधी) के समय से याद है ।

उन्होंने कहा कि यह जगह पहले बंजर थी, तब मैं बारह साल की थी, आज जो यहां हरियाली है

यह सब उनके पिता राजीव गांधी की देन है ।

उन्होंने भाई राहुल की ओर इशारा करते हुए कहा के वो ख़ुश होते हैं कि आप जागरूक हैं

और आप अपना अधिकार मांग रहे हैं।

भाजपा सरकार चाहती हैं कि जनता की आंख बंद रखे। ये चाहते हैं जनता मजबूत न हो वो खुद मजबूत हो।

प्रधानमंत्री का नाम लिए बगैर श्रीमती वाड्रा ने कहा जो जिनका 56 इंच का सीना है ,

अपने पर बड़ा फख्र करते हैं, वो आपकी आवाज बंद कर देना चाहते हैं ताकि आप कुछ न कर पाओ।

इनकी नियत और इनकी नीतियां अच्छी तरह से समझ लीजिए।

भाजपा की नियत ठीक नहीं है, किसानों के लिए पांच साल में कुछ नहीं किया।

आवारा पशुओं के बारे में कुछ नहीं किया। कहा था बाड़े एवं गौ शाला बनाएंगे कुछ नहीं बना।

लेकिन चुनाव के पहले ऐलान कर दिया आवारा पशुओं को पकड़े और बाडों में बंद कर दें ।

उन्होंने कहा कि चुनाव को देखते हुए भाजपा ने किसान सम्मान योजना निकाली ।

उन्होंने कहा मैं बताती हूं कितना सम्मान है आपका। छह हजार रुपए देना चाहते हैं ,

आपको हर साल, आपका 4-5 सदस्यों का परिवार है अगर तो एक सदस्य को एक दिन मे ढ़ाई रुपए मिलेंगे ।

आपको प्रताड़ति करके पांच साल तक नकारने के बाद लोकसभा चुनाव से पहले किसान सम्मान की योजना है।

मैं कहती हूं यह किसान सम्मान नहीं किसान अपमान योजना है।

जो दो हजार रुपए डाले खाते में वो भी चुनाव से पहले निकालने शुरू कर दिए हैं ।

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि जनता की आवाज उठे तो नेता सुन ले।

आदर करें जनता का। भावनात्मक रिश्ते जोड़ते हुए उन्होंने कहा आप यहां हमें डांटते हैं, शिकायत करते हैं।

सड़क बनवा दिए कहते हैं, हम दुखी नहीं होते ।

लेकिन भाजपा वाले ऐसा नहीं कहते उनका मानना है कि आवाज उठाई है ,

जाओ जेल में, चुप रहो आप की हिम्मत कैसे हुई ।

प्रियंका ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल आप के बीच आते हैं, आपसे मिलते हैं ,

आपसे पूछते हैं आप डांटते हो तो भी वे बुरा नहीं मानते।

वो मानते है कि हमारा कर्तव्य है जनता की सेवा करना उसकी डांट को बर्दाश्त करना।

उन्होंने कहा लोकतंत्र का मतलब है जनता की शक्ति जनता के हाथों में हो।



Rashtriya Khabar


More from चुनावी चकल्लसMore posts in चुनावी चकल्लस »

Be First to Comment

Leave a Reply

WP2FB Auto Publish Powered By : XYZScripts.com