Press "Enter" to skip to content

त्रिपुरा में भाजपा की एकतरफा जीत के बाद भी भाजपा नेतृत्व सशंकित




राष्ट्रीय खबर

अगरतलाः त्रिपुरा में भाजपा की एकतरफा जीत हुई है स्थानीय निकायों के चुनाव में। वहां की 334 सीटों में से 329 पर भाजपा के प्रत्याशी विजयी हुए हैं। मुख्यमंत्री विप्लव देव ने भी इस जीत पर पार्टी की सफलता की बधाई दी है।




इसके बाद भी भाजपा के स्थानीय रणनीतिकार इस चुनाव परिणाम को खतरे की घंटी मान चुके हैं। दरअसल इस चुनाव में भी अचानक से तृणमूल कांग्रेस को बीस प्रतिशत से अधिक वोट हासिल होना कोई छोटी बात नहीं है।

इस राज्य में इससे पहले टीएमसी की मौजूदगी नहीं थी। पिछले तीन महीने से सक्रिय इस पार्टी ने इतना अधिक वोट हासिल कर खुद को वहां की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर स्थापित कर भाजपा खेमा को चिंता में डाल दिया है। वैसे भाजपा की इस एकतरफा जीत के बारे में दूसरे दल यह भी आरोप लगा रहे हैं कि सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर यह जीत जबरन हासिल की गयी है।

त्रिपुरा में भाजपा 112 सीटों पर निर्विरोध जीती है

जिन सीटों के लिए चुनाव हुए थे उनमें से 112 में भाजपा बिना किसी मुकाबले के ही जीत गयी थी। इन सीटों पर कोई विपक्ष नहीं था जबकि अन्य विरोधी दलों का आरोप है कि आतंक के बल पर दूसरों को नामांकन दाखिल करने तक नहीं दिया गया था।




भाजपा की चिंता तृणमूल कांग्रेस के चुनाव परिणामों के लेकर है जो अब राज्य में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है। भाजपा को इस चुनाव में 56.88 प्रतिशत वोट मिले हैं। वाम मोर्चा के 25 वर्ष के शासन को पराजित कर भाजपा इस राज्य में वर्ष 2018 में सत्ता में आयी थी। अब तृणमूल कांग्रेस ने वहां संगठन का विस्तार प्रारंभ किया है। 

इस वजह से भाजपा के रणनीतिकार मान रहे हैं कि भविष्य के विधानसभा चुनाव के लिए अभी से ही तृणमूल कांग्रेस एक बड़ी चुनौती के तौर पर उभरने लगी है। इसके तहत बंगाल में कारगर रहा खेला होबे का नारा यहां भी सुनाई पड़ने लगा है।

तृणमूल कांग्रेस ने पूरे देश में अपने संगठन का विस्तार करने के क्रम में पूर्वोत्तर भारत के राज्यों को प्राथमिकता सूची में रखा है। इसी वजह से असम की सुस्मिता देव को राज्यसभा में भेजने के बाद उन्हें पूरे इलाके का प्रभारी भी बनाया गया है।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from त्रिपुराMore posts in त्रिपुरा »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: