fbpx Press "Enter" to skip to content

भाजपा ने नीतीश को दिया झटका अरुणाचल प्रदेश के छह विधायक तोड़े




  • भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी:  भाजपा ने दूसरी पार्टी के विधायकों को अपने दलों में शामिल करने के लिए जो योजना बनाया था, अभी

सभी सफल होने लगी हैं।  इस योजना के अनुसार पश्चिम बंगाल के तृणमूल कांग्रेस के विधायकों को बीजेपी में

शामिल करने  में सफल होने के बाद असम और अरुणाचल प्रदेश में भी इस योजना ने काम करना शुरू कर दिया

है। बिहार में भाजपा के साथ गठबंधन सरकार बनाने वाली जनता दल यूनाइटेड  के विधायकों को भी नहीं छोड़ रही

है। इसका मतलब यह है कि राजनीति में, भारतीय जनता पार्टी किसी भी पार्टी को बढ़ने नहीं देगी। खबर के अनुसार

अरुणाचल प्रदेश  में जनता दल यूनाइटेड  के छह विधायक पार्टी से बागवत करते हुए भारतीय जनता पार्टी में

शामिल हो गए हैं। अरुणाचल में नीतीश कुमार के लिए ये बड़ा झटका है क्योंकि जेडीयू के कुल सात विधायक

मौजूदा विधानसभा में थे। जिसमें से छह अब भाजपा में चले गए हैं और उनके पास सिर्फ एक विधायक बचा है।

वहीं पीपल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल  के इकलौते विधायक कारदो निग्योर भी भाजपा में चले गए हैं। लिकाबल से

विधायक निग्योर को पीपीए ने पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए निलंबित किया हुआ था।अरुणाचल प्रदेश

विधानसभा की ओर जारी बुलेटिन में बताया गया है कि जदयू के जो विधायक भाजपा में आए हैं। उनमें रमगोंग

विधानसभा क्षेत्र के विधायक तालीम तबोह, चायांग्ताजो से एमएलए हायेंग मंग्फी, ताली से विधायक जिकके

ताको, कलकटंग से विधायक दोरजी वांग्दी खर्मा, बोमडिला के विधायकों  डोंगरू सियनग्जू और मारियांग-गेकु

विधानसभा से विधायक कांगगोंग टाकू हैं। वहीं एक विधायक पीपल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल से भाजपा में आए हैं।

अरुणाचल प्रदेश में जनता दल यू में काफी समय से उठापटक चल रही थी। नवंबर में डोंगरू सियनग्जू, दोरजी खर्मा

और कांगगोंग टाकू को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए निलंबित कर दिया था।

भाजपा ने काफी समय से वहां नजर बनाये रखी थी

जेडीयू के इन छह विधायकों ने पार्टी आलाकमान के खिलाफ जाते हुए तालीम तबोह को विधायक दल का नया नेता

चुन लिया था। जदयू और बीजेपी सहयोगी दल हैं। दोनों की बिहार में साझा सरकार है। ऐसे में इस घटनाक्रम का

दोनों पार्टियों के रिश्तों पर क्या फर्क पड़ेगा, ये भी देखना होगा। अरुणाचल प्रदेश के प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीआर

वाघे ने कहा है कि जो नेता पार्टी में आए हैं। उनका हम स्वागत करते हैं। हमने पार्टी में शामिल होने के विधायकों के

पत्रों को स्वीकार कर लिया है। बता दें कि अरुणाचल प्रदेश में 2019 में विधानसभा के चुनाव हुए थे और राज्य में

भाजपा की सरकार है।अरुणाचल में यह घटनाक्रम ऐसे समय में हुआ है, जबकि पिछले माह ही बिहार विधानसभा

चुनाव के नतीजों में भाजपा और जदयू की अगुवाई में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) 125 सीटों के साथ

कांटों के मुकाबले में बहुमत पाने में कामयाब रहा था। हालांकि इस चुनाव में नीतीश की अगुवाई वाले जदयू को

काफी नुकसान उठाना पड़ा, लेकिन भाजपा ने जबर्दस्त कामयाबी हासिल की।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अरुणाचल प्रदेशMore posts in अरुणाचल प्रदेश »
More from चुनावMore posts in चुनाव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: