fbpx Press "Enter" to skip to content

भाजपा के चुनावी सेनापतियों के चेहरों पर अब रौनक लौटी

  • नरेंद्र मोदी की सभा की भीड़ देख उत्साहित हुए
  • अगले चरण में बढ़ेगी मोदी की सभा की मांग
  • जोरदार तरीके से विपक्षी दलों पर किया हमला
  • आगे की जिम्मेदारी स्थानीय भाजपा नेताओं की
संवाददाता

रांचीः भाजपा के चुनावी सेनापतियों के चेहरे अब बदले बदले दिखने लगे हैं। सोशल मीडिया के माध्यम से भी

अपना संदेश देने के क्रम में उनका आत्मविश्वास बढ़ा हुआ नजर आने लगा है। दरअसल मेदिनीनगर और

गुमला की जनसभाओं में भीड़ की उपस्थिति और उत्साह देखकर ही भाजपा नेता दोगुने जोश से भर गये हैं।

आज इन दो जनसभाओं के बाद लोग अगले दौर के चुनावी सभाओं में भी नरेंद्र मोदी की उपस्थिति की

अनिवार्यता की चर्चा करने लगे हैं। नरेंद्र मोदी ने अपने दोनों चुनावी सभाओं में जिस तरीके से विपक्ष

पर हमला किया, उससे भाजपा के स्थानीय नेताओं को भी आक्रामक तेवर अपनाने का मौका मिल गया है।

वरना इससे पहले स्थानीय स्तर पर कई नेताओं और सांसदों के पहुंचने के बाद भी भाजपा के पक्ष में माहौल

बनता नजर नहीं आ रहा था। इसी वजह से भाजपा की सीटों से चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों के साथ साथ

अन्य चुनावी संचालक भी परेशान हो रहे थे।

भाजपा के चुनावी सेनापति इससे पहले थे परेशान

उल्लेखनीय है कि चुनाव की घोषणा होने के दौरान भाजपा इस राज्य में स्पष्ट तौर पर बढ़त की स्थिति में दिख

रही थी। बाद में आजसू के साथ खटपट होने और दूसरे खेमे में एकजुटता आने से यह समीकरण बदल गया था।

इसी वजह से प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने जिस घर घर रघुवर का नारा दिया था, उससे भाजपा के दूसरे नेता भी

कन्नी काटने लगे थे। आज की जनसभाओं में प्रधानमंत्री ने जिस तरीके से विपक्ष पर हमला बोलने के साथ

साथ राज्य सरकार के काम काज की प्रशंसा की, उससे भाजपा के अंदर और बाहर यह साफ संकेत गया है

कि भाजपा के बहुमत में आने से रघुवर दास ही दोबारा राज्य के मुख्यमंत्री बन सकते हैं।

वैसे पहले चरण के चुनाव में मतदान के बाद ही यह स्पष्ट हो जाएगा कि नरेंद्र मोदी की पूरी ताकत लगाने

के बाद भी स्थानीय स्तर पर भाजपा प्रत्याशी और नेता क्या कुछ कमाल कर पाये हैं। दरअसल माहौल

बनाने की जिम्मेदारी श्री मोदी ने पूरी कर दी है। इस माहौल को मतदान के दिन तक कायम रखना

अब स्थानीय भाजपा नेताओं की ही जिम्मेदारी है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply