विज्ञापन में सहवाग के बेबीसिटर से एक खुश तो दूसरा गुस्सा

विज्ञापन में सहवाग के बेबीसिटर बनने पर एक खुश तो दूसरा गुस्सा
Spread the love
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    4
    Shares

नई दिल्ली: विज्ञापन में वीरेंद्र सहबाग का एक रोल किसी को खुश तो किसी को नाराज कर गया है।

वीरू भारत-ऑस्ट्रेलिया सीरीज के प्रमोशन एड में रोल में एक बेबीसिटर बने हैं

जबकि प्रतिकात्मक तौर पर ऑस्ट्रेलियाई टीम को बच्चों के रूप में दिखाया गया है।

ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में करारी शिकस्त देने के बाद अब भारतीय टीम घरेलू मैदान पर

ऑस्ट्रेलिया का सूपड़ा साफ करना चाहेगी।

लेकिन इस सीरीज के शुरू होने से पहले ही पिछली सीरीज की कुछ यादगार चीजें ब्रॉडकास्टर स्टार सामने ले आया है।

दरअसल सीरीज के ऑफीशियल ब्रॉडकास्ट स्टार स्पोर्ट्स ने ये एड तैयार किया है।

जिसमें वीरेंद्र सहवाग लीड रोल प्ले कर रहे हैं।

इतना ही नहीं वीरू इस रोल में एक बेबीसिटर बने हैं।

जबकि प्रतिकात्मक तौर पर ऑस्ट्रेलियाई टीम को बच्चों के रूप में दिखाया गया है।

इस एड में वीरू कहते दिखते हैं कि ‘जब हम ऑस्ट्रेलिया गए थे, तो उन्होंने पूछा था बेबीसिटिंग करोगे?

हमने कहा सबके सब आ जाओ, जरूर करेंगे।’

दरअसल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन ने

रिषभ पंत को बेबीसिटर बुलाया था।

इसके बाद पंत ने पेन के बच्चों को संभालकर उन्हें अपना जवाब दिया था और भारत ने सीरीज भी जीत ली थी।

इसके बाद अब उसी तर्ज पर ये ऐड तैयार किया गया है।

रिषभ पंत ने इस एड को देख वीरू को लेकर ट्वीट किया कि ‘वीरू पाजी मुझे सिखा रहे हैं कि

कैसे क्रिकेट और बेबीसिटिंग में बेहतर हुआ जा सकता है।

हमेशा प्रेरणा स्त्रोत।’लेकिन इस एड को जहां भारतीय खिलाड़ी मजाक के रूप में ले रहे हैं

वहीं ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज मैथ्यू हेडन इस एड को देख आगबबूला हो गए हैं।

उन्होंने कहा है कि ‘चेतावनी! ऑस्ट्रेलिया को मजाक में मत लो वीरू, याद करो वर्ल्ड कप की बेबी सिटिंग कौन कर रहा है?’

दरअसल 2003 विश्वकप फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के हाथों ही भारत हारा था।

जबकि भले ही ऑस्ट्रेलियाई टीम अभी आउट ऑफ फॉर्म नजर आ रही हो

सबसे अधिक चार बार विश्वकप जीतने का रिकॉर्ड अब भी कंगारू टीम के नाम ही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.