fbpx Press "Enter" to skip to content

बिन्नी स्टील के फर्जी मुकदमों के खिलाफ ग्रामीणों ने की बैठक

चांडिल: बिन्नी स्टील द्वारा किसानों से जबरन एनओसी लेने और इनकार करने वाले

किसानों को झूठे मुकदमों में फंसाने के खिलाफ आज निमडीह प्रखंड के लुपुंगडीह में

आक्रोशित ग्रामीणों की एक बैठक ग्राम प्रधान लक्ष्मण गोप की अध्यक्षता में हुई। बैठक में

बिन्नी स्टील के मनमाना और दमनकारी रवैये पर रोष व्यक्त किया गया। बिन्नी स्टील

ने 2005 में लुपुंगडीह में कारखाना लगाने के लिए ग्रामीणों से जमीनें खरीदी थी। उन्होंने

किसानों से एग्रीमेंट किया था कि दो साल के अंदर कारखाना लगाएंगे और उन्हें नौकरी

तथा अन्य सुविधाएं मुहैया कराएंगे, जो आज तक नहीं मिला है। कंपनी प्रबंधन विगत दो

बर्षो से पुनः किसानों से एनओसी लेने का प्रयास कर रही है और जिन किसानों ने

एनओसी देने से इनकार किया है उन्हें झूठे मुकदमों में फंसा कर जेल भी भेजा गया।

ग्रामीणों का कहना है कि कंपनी जमीन कारखाना बनाने के लिए लिया था पर उसे अब

इतने दिनों के बाद रियल एस्टेट के लिए इस्तेमाल करना चाहती है। यह कानूनन गलत

है। अगर कंपनी कारखाना स्थापित नहीं करती है तो कानूनी प्रावधान के अनुसार यह

जमीन किसानों को वापस मिल जाना चाहिए। कंपनी ने कारखाना ना लगा कर ग्रामीणों

के साथ किए गए अनुबंध का उल्लंघन किया है। इसलिए उस पर मुकदमा चलाया जाना

चाहिए। लुपुंगडीह पंचायत के मुखिया जयदेव सिंह सरदार एवं पंचायत समिति सदस्य

वासुदेव हेंब्रम की उपस्थिति में ग्रामीणों ने तय किया की संपूर्ण स्थिति से पुलिस एवं

प्रशासन को अवगत कराया जाएगा तथा किसानों के जमीन वापसी की मांग की जाएगी।

बिन्नी स्टील से जमीन वापसी का आंदोलन भी होगा

इस संबंध में आगे की रणनीति तय करने के लिए अगले सप्ताह फिर से ग्रामीण विचार

विमर्श करेंगे तथा जरूरत पड़ने पर रांची हाई कोर्ट में याचिका भी दायर की जाएगी। बैठक

में विस्थापित मुक्ति वाहिनी के श्यामल मार्डी, नारायण गोप, ईश्वर गोप, भैरव गोप, गांव

गणराज्य लोक समिति के वृहस्पति सिंह सरदार, दीपक गोप, मधु गोप, साधु गोप आदि

उपस्थित थे।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from सरायकेला-खरसांवाMore posts in सरायकेला-खरसांवा »

2 Comments

Leave a Reply