fbpx Press "Enter" to skip to content

बिहार विधानसभा में मंत्री और अध्यक्ष के बीच हुई सीधी नोकझोंक

  • दो बार सदन की कार्यवाही भी स्थगित हुई

  • सदन स्थगित कर अपने कार्यालय चले गये अध्यक्ष

  • बाद में मंत्री ने खेद प्रकट किया तो यह मामला सुलझा

  • मंत्री ने अध्यक्ष को कार्यवाही के बीच दो टूक जबाव दिया

राष्ट्रीय खबर

पटनाः बिहार विधानसभा में बुधवार को पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी और

विधानसभा अध्यक्ष के बीच सीधी नोकझोंक के कारण देर तक सदन की कार्यवाही बाधित

रही। मंत्री ने पहले अध्यक्ष के आदेश को मानने से इंकार कर दिया और उनके टोकने पर

कहा कि अधिक व्याकुल होने की जरूरत नहीं है । इस को अध्यक्ष ने दिल पर ले लिया और

नाराज हो गए। उसके बाद उन्होंने सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी। हालांकि इसके बाद

सत्ता पक्ष के लोगों द्वारा उनके कक्ष में जाकर देर तक मनाने का भी दौर चलता रहा ,

लेकिन वे नहीं माने। दो बार सभा की कार्यवाही भी स्थगित करनी पड़ी। बाद में सदस्यों के

मनाने और आग्रह करने पर भोजन अवकाश के बाद मंत्री सम्राट चौधरी ने खेद प्रकट कर

दिया तब जाकर बिहार विधानसभा में कार्यवाही शुरू हो सकी। दरअसल, ऑनलाइन

जवाब को लेकर पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने स्पीकर पर विफरते हुए कहा कि

अध्यक्ष महोदय सदन में आपको ज्यादा व्याकुल होने की जरूरत नहीं है। इस पर स्पीकर

विजय कुमार सिन्हा हैरत में पड़ गए और उनको मंत्री से इस तरह के टका सा जवाब की

आशा नहीं थी। सदस्यों के हंसने और और अपने उपहास को देखते हुए उन्होंने मंत्री से

बिहार विधानसभा में खेद प्रकट करने को कहा तो मंत्री ने तपाक से कहा कि अध्यक्ष के

दिशा-निर्देश पर सदन चलेगा। लेकिन इस तरह के व्यवहार से नहीं चलेगा। सदन में

स्पीकर विजय सिन्हा एवं पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी के बीच आसन से माफी

मांगने को लेकर काफी नोंक-झोंक हुआ। इसके बाद स्पीकर विजय सिन्हा ने सदन की

कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

बिहार विधानसभा में ऐसी स्थिति आयी तो सत्ता पक्ष सक्रिय हुआ

इसके बाद उपमुख्यमंत्री रेणु देवी, संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी एवं जनक सिंह

ने स्पीकर के चेम्बर में पहुंचकर उनको मनाने की कोशिश की। लेकिन इससे खफा

विधानसभा अध्यक्ष ने एक भी बात नहीं मानी। ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार समेत

कई नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कक्ष में पहुंचे तो वहां मुख्यमंत्री नहीं थे। स्पीकर का

क्रोध इतना बढ़ गया था कि सत्ता एवं विपक्षी सदस्यों के बीच कौतुहल का‌ विषय बन गया

था। जब दोबारा 12 बजे बिहार विधानसभा में कार्यवाही शुरू होने से पहले सदन में बैठे पूर्व

मंत्री नरेन्द्र नारायण यादव के पास पहुंचकर स्पीकर चेम्बर में पहुंचने को कहा गया तो

आनन-फानन में नरेन्द्र नारायण यादव पहुंचे व स्पीकर को काफी मनाने का मशक्कत

किया गया। लेकिन इससे खफा स्पीकर कुछ सुनने को तैयार नहीं थे। इसके बाद सदन की

कार्यवाही तय समय से पांच मिनट बाद शुरू हुई। उसमें विधानसभा के पीठासीन स्पीकर

नरेन्द्र नारायण यादव आसन पर बैठकर बिहार विधानसभा में कार्यवाही शुरू की और

सदन को दो बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। हालांकि सदन में किसी प्रकार का

शोर-शराबा नहीं हुआ। सत्ता एवं प्रतिपक्ष के बीच चर्चा का विषय बन गया। कुछ

सत्तापक्ष के सदस्यों का कहना था कि ढाका के विधायक पवन जाएसवाल के प्रश्न का

उतर पंचायती राज मंत्री द्वारा दिया गया था।

पहले से ही प्रश्नों का ऑनलाइन उत्तर देने के कहा जा रहा है

लेकिन सत्ता पक्ष एवं विपक्ष द्वारा उतर से असंतुष्ट सदस्यों के मांग पर विधानसभा

अध्यक्ष ने मंत्री से ऑनलाइन उत्तर की मांग कर दी । शोरगुल बढ़ने और मंत्री द्वारा

अध्यक्ष के आदेश को महत्व नहीं देने पर अध्यक्ष ने सदन को स्थगित कर दिया गया था।

उससे आसन एवं मंत्री के बीच टकराव तेज हो गया था। विधानसभा में अरूणा देवी के

सवाल के जवाब में लघु जल संसाधन मंत्री रामप्रीत पासवान ने कहा कि पईन मिट्टी से भर

गयी है तथा इसके कुछ भाग में अतिक्रमण है। अतिक्रमण मुक्त कराने हेतु कार्यपालक

अभियंता लघु सिंचाई प्रमंडल नवादा द्वारा अंचलाधिकारी को लिखा गया है। अतिक्रमण

मुक्त होते ही इस पइन का जीणोद्घार कार्य करा लिया जायेगा। भूदेव चौधरी के तारांकित

सवाल के उतर में जल संसाधन मंत्री संजय झा ने कहा कि बांका जिला के धोरैया प्रखंड के

श्रीपाथर वितरणी शाखा के लोग गांव में जगतपुर तक का नहर कच्ची है। राज्य सरकार ने

चंदन जलाशय योजना के तहत 3550 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई उपलब्ध करायी जा रही है।

राज्य में भू-जल संचय को देखते हुए नहरों को पक्कीकरण कराने का प्रावधान नहीं है।

शालिनी मिश्रा के सवाल का उत्तर देते हुए बिहार विधानसभा में पंचायती राज मंत्री सम्राट

चौधरी ने कहा कि राज्य के करीब 8000 से अधिक पंंचायतों में पंचायत सरकार भवन

बनाने का प्रावधान है। अगले वित्तीय वर्ष में सभी पंचायतों में पंचायत सरकार भवन बना

दिया जायेगा।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

One Comment

... ... ...
%d bloggers like this: