fbpx Press "Enter" to skip to content

बिहार के मुख्यमंत्री ने कोरोना रोकने के लिए कड़ाई का निर्देश दिया

  • भीड़ भाड़ वाले इलाकों में अतिरिक्त पुलिस तैनात होगी

  • एकत्रित होने की अधिकतम संख्या अब ढाई सौ ही होगी

  • एसटीएफ की टीम ने पूर्णिया से दो अपराधियों को पकड़ा

  • मधुबनी का जातीय तनाव से नई किस्म की परेशानी

दीपक नौरंगी

भागलपुरः बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना पर एक सही फैसला लिया है।

उन्होंने वरीय अधिकारियों के साथ एक बैठक कर स्थिति की समीक्षा भी की थी। इसी

बैठक में राज्य में कोरोना का संक्रमण फिर से बढ़ने की वजह से उसकी रोकथाम के उपायों

पर चर्चा के उपरांत कई फैसले लिये गये है।

वीडियो में जान लीजिए पूरी रिपोर्ट

बिहार के मुख्य सचिव और डीजीपी द्वारा मुख्यमंत्री के निर्देश पर की गयी कार्रवाई के

तहत यह प्रावधान आज से ही लागू कर दिये गये हैं। इसके तहत अब किसी कार्यक्रम में

लोगों की अधिकतम सीमा ढाई सौ तक रखी गयी है। बिहार के सभी शैक्षणिक संस्थानों

को आगामी 11 अप्रैल तक बंद करने का निर्देश जारी कर दिया गया है। मुख्यमंत्री ने राज्य

के अधिक भीड़ भाड़ वाले इलाकों में अधिक पुलिस बल तैनात करने को कहा है ताकि भीड़

को नियंत्रित कर कोरोना संक्रमण को भी फैलने से रोका जा सके। बिहार के मुख्यमंत्री

नीतीश कुमार ने कोरोना पर एक सही फैसला लिया है। उन्होंने वरीय अधिकारियों के साथ

एक बैठक कर स्थिति की समीक्षा भी की थी। इसी बैठक में राज्य में कोरोना का संक्रमण

फिर से बढ़ने की वजह से उसकी रोकथाम के उपायों पर चर्चा के उपरांत कई फैसले लिये

गये है। बिहार के मुख्य सचिव और डीजीपी द्वारा मुख्यमंत्री के निर्देश पर की गयी

कार्रवाई के तहत यह प्रावधान आज से ही लागू कर दिये गये हैं। इसके तहत अब किसी

कार्यक्रम में लोगों की अधिकतम सीमा ढाई सौ तक रखी गयी है। बिहार के सभी शैक्षणिक

संस्थानों को आगामी 11 अप्रैल तक बंद करने का निर्देश जारी कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने राज्य के अधिक भीड़ भाड़ वाले इलाकों में अधिक पुलिस बल तैनात करने

को कहा है ताकि भीड़ को नियंत्रित कर कोरोना संक्रमण को भी फैलने से रोका जा सके।

बिहार के मुख्यमंत्री की मधुबनी पर भी पूरी नजर

मधुबनी जिला से तनाव की लगातार सूचनाएं आ रही हैं। दरअसल सोशल मीडिया के

विस्तार की वजह से मधुबनी के बारे में कई बार अवांछित सूचनाओं को भी प्रसारित किय

जा रहा है. इससे माहौल और बिगड़ रहा है। इस बारे में मधुबनी के एसपी से भी बात करने

की कोशिश की गयी थी। मधुबनी पुलिस कंट्रोल के नाम पर किसी ने इस बात की

जानकारी दी है कि उस मामले में पुलिस कार्रवाई कर रही है। घटना के लिए जिम्मेदार

पाये गये लोगों के खिलाफ पुलिस के स्तर पर कुर्की जब्ती की कार्रवाई भी प्रारंभ कर दी

गयी है। इस कांड के आरोप अभी फरार बताये जा रहे हैं। वैसे मधुबनी के इस मामले को

हल्के में लेना भूल होगी क्योंकि दूसरे माध्यमों से इस बात की पुष्टि हो रही है कि घटना के

बाद उसका प्रभाव क्षेत्र काफी व्यापक हो चला है। इस पर बिहार सरकार को भी पूरा ध्यान

देने की आवश्यकता है ताकि यह समस्या और विकराल रुप धारण नहीं कर पाये।

दरअसल सोशल मीडिया की वजह से ही यह आग अनर्गल तरीके से फैलायी जा रही है।

इधर एसटीएफ की टीम ने लगातार एक सप्ताह के प्रयास के बाद पूर्णिया से दो

अपराधियों को हथियार के साथ गिरफ्तार करने में सफलता पायी है। इन दोनों

क्रिमिनलों के वहां होने की सूचना पर ही एसटीएफ की टीम वहां लगातार कैंप कर

अपराधियों की तलाश कर रही थी। भूषण यादव और अखिलेश यादव दोनों ही पुलिस

रिकार्ड में ईनामी अपराधी घोषित हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: